‘महाराष्ट्र में सरकार गठन में देरी कर भाजपा राष्ट्रपति शासन थोपना चाहती है.

— संजय राउत, शिव सेना नेता

संजय राउत का यह बयान महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी अनिश्चितता के बीच आया है. नौ नवंबर को राज्य की मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है, लेकिन शिवसेना और भाजपा में मची खींचतान के चलते चुनावी नतीजों के दो हफ्ते बाद भी सरकार नहीं बन सकी है. शिवसेना ढाई साल अपना और ढाई साल भाजपा का मुख्यमंत्री रखना चाहती है. लेकिन भाजपा इस पर राजी नहीं है.

 ‘सुरक्षा और संप्रभुता से किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा.’

— मेजर जनरल आसिफ गफूर, पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता का यह बयान करतारपुर कॉरीडोर को लेकर आया है. उनका कहना है कि करतारपुर आने वाले भारतीय सिख श्रद्धालुओं को अपने साथ पासपोर्ट लाना होगा. उनका यह बयान प्रधानमंत्री इमरान खान के उलट है जिन्होंने कहा था कि पासपोर्ट अनिवार्य नहीं है और कोई भी वैध पहचान पत्र चल सकता है. करतारपुर कॉरीडोर का उद्घाटन नौ नवंबर को होना है.


‘मुल्क के लिए एकजुट हुए हैं, मुजरा नहीं हो रहा यहां’  

— मौलाना फजलुर रहमान, पाकिस्तानी धर्मगुरु

विशाल आजादी मार्च की अगुवाई कर रहे फजलुर रहमान की मांग है कि चुनावों में धांधली के जरिये सत्ता में आए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान इस्तीफा दें. उन्होंने धमकी दी है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो निश्चित रूप से पूरे देश में अराजकता का माहौल बनेगा. उधर, इमरान खान ने कहा है कि वे इस्तीफे के अलावा सभी जायज मांगों पर बात करने को तैयार हैं. फजलुर रहमान के मार्च को पाकिस्तान के विपक्षी दल भी समर्थन दे रहे हैं.