गांधी परिवार को मिली एसपीजी सुरक्षा वापस ली जाएगी. पीटीआई के मुताबिक सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी को अब जेड प्लस सुरक्षा दी जाएगी. इसके तहत सीआरपीएफ के कमांडो इन नेताओं की सुरक्षा करेंगे. बताया जा रहा है कि गृह मंत्रालय की एक उच्चस्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया है.

गृह मंत्रालय अतिविशिष्ट लोगों को मिली सुरक्षा की समय-समय पर समीक्षा करता रहता है. सूत्रों के मुताबिक मंत्रालय का मानना है कि फिलहाल गांधी परिवार को कोई खतरा नहीं है और ऐसे में उसके सदस्यों के लिए एसपीजी के बजाय जेड प्लस सुरक्षा पर्याप्त होगी. बताया जा रहा है कि उसने यह फैसला सुरक्षा एजेंसियों से मिली सूचनाओं के आधार पर लिया है. कुछ समय पहले पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा भी वापस ले ली गई थी. अब गृह मंत्रालय के ताजा फैसले का मतलब यह है कि देश में एसपीजी सुरक्षा सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास है.

राजीव गांधी की हत्या के बाद पूरे गांधी परिवार को एसपीजी सुरक्षा कवर देने का फैसला किया गया था. पूर्व प्रधानमंत्री पर 1991 में आतंकी संगठन लिट्टे ने आत्मघाती हमला करवाया था. यह हमला तब हुआ था जब वे आम चुनाव के लिए प्रचार के दौरान तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में थे.