अयोध्या विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आज दिन भर सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना रहा. ट्विटर पर लगभग सभी हैशटैग और ट्रेंड किसी न किसी तरह से इस फैसले से जुड़े दिखाई दिए. ट्विटर ट्रेंड्स के आंकड़े बताते हैं कि शुक्रवार शाम से ही चर्चा में रहे, हैशटैग अयोध्या वर्डिक्ट (#AYODHYAVERDICT) पर आज दिन भर में करीब छह लाख ट्वीट किए गए जो एक बहुत बड़ा आंकड़ा हैं. आम तौर पर ट्विटर पर किसी बेहद चर्चित टॉपिक पर भी औसतन 20 से 30 हजार टिप्पणियां ही आती हैं. ‘अयोध्या वर्डिक्ट’ के अलावा आज राम जन्मभूमि, राम मंदिर, बाबरी मस्जिद, राम लला भी ट्विटर पर ट्रेंड करते रहे और इनमें से प्रत्येक पर यहां दसियों हजार टिप्पणियां की गईं.

सोशल मीडिया पर ज्यादातर लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है और आपसी समरसता बनाए रखने की अपील की है. यहां पर एक बड़ी संख्या में लोग यह सवाल करते हुए भी दिखाई दिए कि क्या इस मुद्दे पर बीते कई दशकों से चल रही राजनीति अब बंद कर दी जाएगी. जैसे, फेसबुक यूजर अनिमेष मुखर्जी ने पूछा है कि ‘क्या अब से चुनाव विकास और रोज़गार के मुद्दे पर होंगे?’ इसी तरह अभिनेत्री तापसी पन्नू ने भी बगैर मसले का जिक्र किए ट्वीट किया है – ‘हो गया? बस. अब?’ इस तरह के सवाल-जवाब और सरकार के अगले कदमों का अंदाजा लगाने के साथ-साथ सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कुछ मज़ेदार टिप्पणियां भी की गई हैं.

अमित तिवारी | fb/amit.tiwary7

- बधाई हो.. बधाई हो!

- कौने बात की?

- अरे, मन्दिर बनेगा

- तो तुम उसमें का करोगे?

- जाएंगे, दर्शन करेंगे

-फ़िर?

- लौट के वही टिकटॉक और हर ट्वीट 2 रुपये

-अरे काहे?

-अरे अब का बताएं.. वैकेंसिये नहीं आ रही!

पनस्टर | @Pun_Starr

एक हिंदू के तौर पर मैं सुप्रीम कोर्ट के फैसले से बहुत खुश हूं क्योंकि अब एक और मंदिर ऐसा होगा जहां मैं जीवन में कभी नहीं जाउंगा #AyodhyaVerdict

परेश रावल | @SirPareshRawal

अब पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर और यूनिफॉर्म सिविल कोड. कोई शक?


आज एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन औवैसी ने अयोध्या विवाद पर आए फैसले के बाद नाराज़गी जताते हुए कहा था कि मुसलमानों को पांच एकड़ जमीन की जरूरत नहीं है. उनके इस बयान ने भी ट्विटर पर खूब सुर्खियां बटोरीं और इस पर तकरीबन तीस हजार टिप्पणियां की गई हैं. इसके साथ ही, सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज मार्कंडेय काटजू की टिप्पणी ने सोशल मीडिया पर काफी चर्चा बटोरी जबकि उन्होंने फैसले पर सीधे-सीधे सकारात्मक या नकारात्मक टिप्पणी करने के बजाय कुछ ना कहने का विकल्प चुना था. इनके अलावा भी सोशल मीडिया पर फैसले की आलोचना करने वाली टिप्पणियां पोस्ट की गई हैं.

तुषार | TusharG

अगर अब सुप्रीम कोर्ट में गांधी मर्डर केस का दोबारा ट्रायल करवाया जाए तो फैसला आएगा कि नाथूराम गोडसे ने हत्या तो की है लेकिन वह एक देशभक्त भी है.

राना अय्यूब | @RanaAyyub

दक्षिणपंथी (ट्विटर) हैंडल मुसलमानों से कह रहे हैं कि वे बाबरी फैसले को स्वीकार करें और शांत और सौहार्द्र बनाए रखें. वहीं वे खुद राम मंदिर बनाए जाने का जश्न मना रहे हैं. यही बहुसंख्यकों को मिला विशेषाधिकार होगा.

सलमान निज़ामी | @SalmanNizami_

पांच एकड़ जमीन को क्यों नहीं लेना? ओवैसी 20 करोड़ मुसलमानों के ठेकेदार नहीं है. हम मस्जिद ज़रूर बनाएंगे और एक ऐसी संस्था भी जहां हिंदू और मुस्लिम एक साथ पढ़ सकें. किसी को भी बुरा महसूस नहीं करना चाहिए. नफरत और बुराई से केवल सकारात्मक ऊर्जा और विचारों के जरिए ही लड़ा जा सकता है.

मार्कंडेय काटजू | @mkatju

मुझे सिखाया गया है कि अगर आपके पास किसी के बारे में कहने के लिए कुछ अच्छा न हो तो कुछ नहीं कहना चाहिए. फ्रैंकली, मेरे पास सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या फैसले पर कहने के लिए कुछ नहीं है.


फैसले के स्वागत और आलोचनाओं के बीच सोशल मीडिया पर सबसे दिलचस्प हैशटैग हिंदू-मुस्लिम भाई-भाई (#HinduMuslimBhaiBhai) रहा. इस पर भी हजारों की संख्या में ट्वीट्स आए लेकिन इस हैशटैग की खास बात साम्प्रदायिक सद्भाव की कुछ बेहद सुंदर तस्वीरें रहीं. हालांकि ये आज के दिन खींची गई तस्वीरें नहीं थीं लेकिन अपने अनोखेपन के साथ सद्भावना का संदेश देने के चलते, ये खूब ध्यान खींचती हैं.

शर्मा जी की बेटी | @PoorvaSharma_

कुछ भी हो जाए ये मत भूलिएगा कि हम वो देश हैं जहां यह होता है #हिंदू मुस्लिम भाई-भाई

जयश्री विजयन | @JayasreeVijayan

#hindumuslimbhaibhai #AYODHYAVERDICT

अदालत के फैसले के लिए आदर!

चलिए, अब भारत की आर्थिक मंदी की पर बात करते हैं

सरकारें अब लोगों का भला करने पर ध्यान लगाएं #जय हिंद