दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में बढ़ते प्रदूषण से आम आदमी ही नहीं, बल्कि ‘सुर-संगीत’ पर भी असर पड़ रहा है. पंजाब के प्रसिद्ध गायक एवं भाजपा सांसद हंसराज हंस ने सोमवार को लोकसभा में यह बात कही और सरकार से इस संबंध में कदम उठाने की मांग की.

शून्यकाल में इस विषय को उठाते हुए उत्तर पश्चिम दिल्ली से लोकसभा सदस्य हंसराज हंस ने कहा कि ‘दिल्ली में कई नामी कलाकार रहते हैं जिनके गले खराब हैं. ‘राग दरबारी’ के लिए संकट पैदा हो गया है. इनके ‘सुर-संगीत’ की हिफाजत के लिए सभी को प्रयास करना चाहिए.’ उन्होंने कहा कि प्रदूषण के इस पक्ष की ओर भी सभी लोगों को गौर करना चाहिए.

जदयू के कौशलेंद्र कुमार ने जलवायु परिवर्तन का मुद्दा उठाते हुए कहा कि मौसम के बदलते मिजाज को कैसे ठीक किया जाए, इस पर सदन को चर्चा करनी चाहिए. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सुप्रिया सुले ने शून्यकाल में महाराष्ट्र में किसानों की समस्याओं का उल्लेख करते हुए किसानों का पूरा कर्ज माफ करने की मांग की. कांग्रेस के जसबीर सिंह गिल ने कहा कि दिल्ली में वायु प्रदूषण के लिये पंजाब में किसानों द्वारा खेतों में पराली जलाये जाने को जिम्मेदार ठहराया जाता है. उन्होंने कहा कि वह पराली का निपटारा करने वाले कृषि उपकरणों की खरीद के लिये किसानों को 50 से 80 फीसदी सब्सिडी देने की मांग करते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि किसानों को दिये जाने वाले ये उपकरण इसी मौसम में दिये जाएं.