‘सांसदों के अनुरोध के बावजूद उपलब्धता से अधिक मांग के चलते कभी-कभी टिकट कंफर्म कर पाना संभव नहीं होता.’ 

— पीयूष गोयल, रेल मंत्री

पीयूष गोयल की यह प्रतिक्रिया लोकसभा में एक सवाल के जवाब में आई. सवाल में कहा गया था कि होली, दशहरा, दीवाली और छठ के अवसर पर उत्तर प्रदेश और बिहार जाने वाली ट्रेनों में प्रतीक्षा सूची टिकटों को संसद सदस्यों के अनुरोध पर भी कंफर्म नहीं किया जाता, जिस कारण (संसद) सदस्यों को अपने रिश्तेदारों के समक्ष शर्मिंदा होना पड़ता है. रेल मंत्री ने कहा कि कभी-कभी यह अनुरोध स्वीकार करना मुश्किल हो जाता है जिसके अपने व्यावहारिक कारण हैं.

‘किसी भी धर्म के लोगों को इससे डरने की जरूरत नहीं है.’   

— अमित शाह, गृहमंत्री

अमित शाह ने यह बात राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर राज्य सभा में एक सवाल के जवाब में कही. उन्होंने कहा कि जल्द ही यह कवायद पूरे देश में लागू की जाएगी. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर असम में एनआरसी की प्रक्रिया अगस्त में निपटी है. इसकी आखिरी सूची में 19 लाख लोगों का नाम नहीं है. यानी उन्हें भारत का नागरिक नहीं माना गया है.


‘महात्मा गांधी की हत्या करने वाले को गौरवान्वित करना निंदनीय है और ऐसे मामलों में कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए.’

— ज्योतिरादित्य सिंधिया, कांग्रेस नेता

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की यह प्रतिक्रिया हिंदू महासभा सहित कुछ वर्गों द्वारा महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को महिमामंडित करने के प्रयासों पर आई. महासभा के कार्यकर्ताओं ने 15 नवंबर को अपने ग्वालियर कार्यालय में गोडसे और नारायण आप्टे की ‘आरती’ उतारी थी. महात्मा गांधी की हत्या के अपराध में दोनों को 15 नवंबर 1949 को अंबाला की जेल में फांसी दी गई थी.


‘किसी भी देश को महिलाओं के लिए असुरक्षित नहीं बताया जाना चाहिए.’  

— रानी मुखर्जी, फिल्म अभिनेत्री

रानी मुखर्जी की फिल्म मर्दानी 2 का ट्रेलर हाल ही में रिलीज हुआ है. इसकी शुरुआत राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के एक आंकड़े से शुरू होती है. इसमें बताया जाता है कि भारत में प्रत्येक साल 2,000 से ज्यादा दुष्कर्म की घटनाएं ऐसी होती हैं जिन्हें 18 साल से कम उम्र के किशोर अंजाम देते हैं. जब उनसे पूछा गया कि क्या वे मानती हैं कि भारत महिलाओं के लिए असुरक्षित है तो उन्होंने कहा कि कई देश महिलाओं के लिए असुरक्षित हैं और किसी को इस तरह की हेडिंग नहीं बनानी चाहिए कि भारत महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है.