इजरायल में एक असाधारण स्थिति पैदा हो गई है. वहां साल भर से भी कम समय के भीतर तीसरा आम चुनाव होना तय दिख रहा है. पीटीआई के मुताबिक बेंजामिन नेतन्याहू के बाद उनके मुख्य प्रतिद्वंदी बेनी गैंज भी बुधवार यानी तय समयसीमा के भीतर सरकार बनाने में नाकाम रहे. इसके साथ ही इस पूर्व सैन्य प्रमुख की लंबे समय से इजरायल के प्रधानमंत्री रहे बेंजामिन नेतन्याहू को सत्ता से बाहर करने की उम्मीदें भी धराशायी हो गईं.

मध्यमार्गी ब्लू एंड व्हाइट पार्टी के नेता बेनी गैंज की सरकार न बनाने की घोषणा से देश में राजनीतिक संकट और गहरा गया है. एक लिहाज से इसने बेंजामिन नेतन्याहू को उम्मीद की एक नयी किरण दिखाई है जो पद पर बने रहने के लिए बेताब हैं. इससे पहले 17 सितंबर को हुए चुनाव में न तो बेंजामिन नेतन्याहू की लिकुड पार्टी को बहुमत मिला था और न ही बेनी गैंज की ब्लू एंड व्हाइट पार्टी को. इसके बाद बेंजामिन नेतन्याहू ने सरकार बनाने की कोशिश की थी. लेकिन वे असफल रहे. इसके बाद बेनी गैंज को मौका दिया गया.

इससे पहले बीते अप्रैल में हुए चुनाव में भी प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू गठबंधन सरकार गठित करने में नाकाम रहे थे. उनकी पार्टी ने रिकॉर्ड पांचवीं बार सबसे ज्यादा सीटें हासिल की थीं, लेकिन वे एक सैन्य विधेयक को लेकर पैदा हुए गतिरोध के कारण गठबंधन नहीं बना पाए. इजरायल के इतिहास में यह पहली बार था जब कोई नामित प्रधानमंत्री सरकार का गठन नहीं कर पाया.इसके बाद इजरायली सांसदों ने अभूतपूर्व कदम उठाते हुए संसद को भंग करने के पक्ष में मतदान किया था.