शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा है कि उनकी पार्टी को ‘भगवान इंद्र के सिंहासन का प्रस्ताव’ मिले तब भी वह भाजपा के साथ नहीं आएगी. पीटीआई के मुताबिक उनका यह भी कहना था कि कांग्रेस और एनसीपी के साथ वाला त्रिदलीय गठबंधन जब सत्ता में आएगा तो महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री का पद उनकी पार्टी को ही मिलेगा. अटकलें थीं कि भाजपा मुख्यमंत्री पद शिवसेना के साथ साझा करने को तैयार है. इस बारे में सवाल पर संजय राउत ने कहा, ‘प्रस्तावों के लिए वक्त अब खत्म हो चुका है. महाराष्ट्र की जनता शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री बनते देखना चाहती है.’ यह पूछे जाने पर क्या तीनों गैर भाजपा दल शुक्रवार को राज्यपाल से मुलाकात करेंगे, इस पर संजय राउत का कहना था, ‘जब राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है तो ऐसे में राज्यपाल से मुलाकात क्यों करेंगे.’

इससे पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और उनके बेटे आदित्य ठाकरे ने गुरुवार रात राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) अध्यक्ष शरद पवार से मुलाकात की. पीटीआई के मुताबिक यह मुलाकात दक्षिणी मुंबई स्थित शरद पवार के निवास ‘सिल्वर ओक’ पर हुई. एनसीपी मुखिया कल ही दिल्ली से मुंबई लौटे थे. बैठक ऐसे वक्त हुई जब कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने दिल्ली में कहा कि उनकी पार्टी और एनसीपी के बीच महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर सभी मुद्दों पर पूरी सहमति है. उनका यह भी कहना था कि अब दोनों दल गठबंधन की संरचना को पूर्णरूप देने के लिए मुंबई में शिवसेना से बातचीत करेंगे.

सूत्रों ने बताया कि तीनों दलों द्वारा राज्य में सरकार बनाने की घोषणा आज की जा सकती है. शिवसेना के एक नेता ने कहा कि आज उद्धव ठाकरे पार्टी के विधायकों और वरिष्ठ नेताओं की बैठक को संबोधित करेंगे