सुप्रीम कोर्ट ने शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया है. अदालत ने कहा है कि वह कल सुबह साढ़े दस बजे अपना फैसला सुनाएगी. महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस के शपथ ग्रहण पर सवाल उठाते हुए शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की थी कि वह तुरंत बहुमत परीक्षण का आदेश दे.

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के बाद एनसीपी विधायक दल के नेता जयंत पाटिल ने कहा कि शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस ने अदालत को अपने साथ 162 विधायकों का समर्थन होने की जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि देवेंद्र फडणवीस के पास बहुमत नहीं है और उनकी सरकार गिर जाएगी.

इससे पहले महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन ने सरकार बनाने का दावा पेश किया. गठबंधन के नेताओं ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को अपने-अपने विधायकों का समर्थन पत्र सौंपा है. उनका कहना है कि 288 सदस्यीय विधानसभा में उनके पास 162 विधायक हैं जो बहुमत यानी 145 के आंकड़े से ज्यादा है. उधर, अदालत में देवेंद्र फडणवीस ने अदालत में अपने साथ 170 विधायकों का समर्थन होने की बात कही है.

बहुमत परीक्षण की संभावना को देखते हुए एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस ने अपने विधायकों पर पहरे कड़े कर दिए हैं. सभी विधायकों को होटलों में ठहराया गया है जहां उन पर कड़ी नजर रखी जा रही है.