देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. मंगलवार दोपहर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने अपने इस्तीफे का ऐलान किया. उन्होंने कहा, ‘हमारे पास बहुमत नहीं है, इसलिए मैं इस्तीफा दे रहा हूं. अब मैं राज्यपाल के पास जाऊंगा और उन्हें अपना इस्तीफा सौपूंगा.’ फडणवीस ने आगे कहा, ‘बीते हफ्ते अजित पवार ने मुझसे कहा था कि सरकार बनाने के लिए हम आपका साथ देंगे, ताकि स्थाई सरकार बन सके. लेकिन जब बहुमत साबित करने की बात आई तो उन्होंने मुझसे कहा कि अब हमारे पास बहुमत नहीं है, मैं गठबंधन जारी नहीं रख सकता.’

देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे से कुछ घंटे पहले शरद पवार के भतीजे अजित पवार ने भी उपमुख्‍यमंत्री पद से अपना इस्‍तीफा दे दिया था. इन दोनों नेताओं ने बीते शनिवार को राजभवन में शपथ ली थी.

माना जा रहा है कि देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार ने इस्तीफे का फैसला एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के विधायकों की एकता और आज आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले को देखते हुए लिया है.

सोमवार शाम को मुंबई के हयात होटल में एनसीपी प्रमुख शरद पवार की उपस्थिति में बहुमत से कहीं ज्यादा 162 विधायक जुटे थे. इस दौरान एनसीपी सुप्रीमो ने कहा था कि विधानसभा में बहुमत साबित करने से पहले वे इससे भी ज्यादा विधायक अपने पक्ष में खड़े कर देंगे. उन्होंने अजित पवार पर कार्रवाई करने की बात भी कही थी. इसके बाद आज सुबह सुप्रीम कोर्ट ने अपने निर्णय में कहा कि बुधवार शाम 5 बजे तक देवेंद्र फडणवीस सदन में बहुमत साबित करें जिसका लाइव प्रसारण हो और वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जाए. साथ ही राज्‍यपाल से कहा गया कि वे प्रोटेम स्‍पीकर की नियुक्‍ति करें.