महाराष्ट्र में 288 विधायकों को शपथ दिलाने के लिए विधानसभा का विशेष सत्र शुरू हो गया है. पीटीआई के मुताबिक प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलांबकर विधायकों को शपथ दिला रहे हैं. अजित पवार, छगन भुजबल, अशोक चव्हाण और पृथ्वीराज चव्हाण पहले शपथ लेने वालों में शामिल रहे. सदस्यों को वरिष्ठता क्रम के आधार पर शपथ दिलाई जा रही है. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कोलांबकर को मंगलवार शाम को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया था.

नव निर्वाचित सदस्य राज्य में चल रहे नाटकीय घटनाक्रमों के कारण विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के एक महीने बाद भी शपथ नहीं ले पाए थे. किसी भी राजनीतिक दल के सरकार न बना पाने के कारण राज्य में 12 नवंबर से 23 नवंबर तक राष्ट्रपति शासन लागू रहा. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कोश्यारी से प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने और यह सुनिश्चित करने को कहा था कि सदन के सभी निर्वाचित सदस्यों को बुधवार शाम पांच बजे तक शपथ दिला दी जाए.

एनसीपी नेता अजित पवार के समर्थन से 23 नवंबर को बनी भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार मंगलवार दोपहर को तब गिर गयी जब पवार ने उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. उसके बाद देवेंद्र फडणवीस को भी मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा. इससे पहले सोमवार को शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के ‘महाविकास अघाडी’ ने 162 विधायकों का समर्थन होने का दावा करते हुए राज्यपाल को एक पत्र सौंपा था.

थोड़ी देर पहले अजित पवार जैसे ही शपथ लेने विधानसभा पहुंचे तो पार्टी नेताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया. पार्टी मुखिया शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले पहले उनके गले लगीं और फिर उनके पांव छुए. अजित पवार के भाजपा के साथ मिलने के बाद सुप्रिया सुले ने कहा था कि परिवार और पार्टी टूट गई है.

एनसीपी ने घोषणा की है कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री होंगे. वे बृहस्पतिवार शाम को दादर के शिवाजी मैदान में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. इस जगह पर उनकी पार्टी हर साल पारंपरिक दशहरा रैली का आयोजन करती है.