बांग्लादेश में 2016 में हुए आतंकी हमले के मामले में सात दोषियों को मौत की सजा सुनायी गई है. यह हमला ढाका के एक कैफे में हुआ था. देश के इतिहास में सबसे भीषण इस आतंकी हमले में 20 लोग मारे गये थे. इनमें एक भारतीय छात्रा भी शामिल थी.

इस हमले के लिए इस्लामिक स्टेट को जिम्मेदार माना गया था. पीटीआई के मुताबिक जांच में पता चला कि दोषियों ने आतंकियों को या तो धन मुहैया कराया था या फिर उन्हें हथियारों की आपूर्ति की थी. अदालत ने मामले में आरोपित एक शख्स को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया. हमले का मास्टरमाइंड बांग्लादेश मूल के एक कनाडाई नागरिक को बताया गया था. वह पहले ही सुरक्षा बलों के एक अभियान में मारा गया था.