‘प्रज्ञा ने जो कहा वह भाजपा और आरएसएस की आत्मा है.’

— राहुल गांधी, कांग्रेस नेता

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने यह बात भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर के संसद में दिए गए उस बयान पर कही जिसमें उन्होंने नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था. इस बयान के बाद भाजपा बैकफुट पर आती दिख रही है. पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आज कहा कि भाजपा प्रज्ञा ठाकुर की टिप्पणी की निंदा करती है. जेपी नड्डा के मुताबिक प्रज्ञा ठाकुर को रक्षा मामलों की परामर्श समिति से हटाये जाने की सिफारिश भी की गई है. उन्होंने ये भी बताया कि प्रज्ञा संसद सत्र के दौरान पार्टी संसदीय दल की बैठक में हिस्सा नहीं ले सकेंगी.

‘पूरी एक पीढ़ी गांधी होने के महत्व से अनभिज्ञ रखने वाले भी अपराधी हैं.’   

— कुमार विश्वास, साहित्यकार

कुमार विश्वास की यह प्रतिक्रिया भी प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर आई है. उन्होंने कहा कि इस गांधी विरोधी अनपढ़ मानसिक दिवालियेपन के पीछे कांग्रेस के दशकों पुराने वे ऐतिहासिक कुकर्म भी है जिसमें उन्होंने पूरा समय ‘अपने गांधियों’ के गुणगान में ज़ाया कर दिया.


‘सब लोग हाथ में मोबाइल उठाकर अपने 25-25 परिजनों को फोन करो और कमल के निशान पर वोट डालने की अपील करो.’  

— अमित शाह, गृहमंत्री

अमित शाह का यह बयान झारखंड के चतरा में आयोजित एक रैली में आया. उनका कहना था, ‘10-15 हजार लोगों से हम जीत लेंगे क्या, मुझे भी गणित आता है, मैं भी बनिया हूं.’ उन्होंने कहा कि सत्ताधारी भाजपा के सामने कांग्रेस और जेएमएम का जो गठबंधन है उसने झारखंड को भ्रष्टाचार के अलावा और कुछ नहीं दिया. राज्य में 30 नवंबर से विधानसभा चुनाव की शुरुआत हो रही है.


‘यह भाजपा के अहंकार का नतीजा है.’

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी का यह बयान राज्य में तीन विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस की जीत और भाजपा की हार पर आया. उन्होंने कहा कि भाजपा के अहंकार के चलते ही जनता से उसे ठुकरा दिया. इन तीन सीटों में दो ऐसी हैं जो तृणमूल 20 साल से नहीं जीत पाई थी.


‘मैं चीन के राष्ट्रपति शी और हांगकांग की जनता का सम्मान करता हूं.’ 

— डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिका के राष्ट्रपति

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यह बात हांगकांग से जुड़े एक विधेयक पर हस्ताक्षर करने के बाद कही. इस विधेयक में वहां लोकतंत्र समर्थकों पर सख्ती करने वाले अधिकारियों पर पाबंदियां लगाने जैसे कई प्रस्ताव हैं. अमेरिकी संसद के दोनों सदनों प्रतिनिधि सभा और सीनेट से ये विधेयक पहले ही पारित हो चुका है. उधर, चीन ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए अमेरिका के खिलाफ जवाबी कार्रवाई करने की धमकी दी है.