इराक में विभिन्न शहरों में जारी प्रदर्शनों के बीच सरकार ने गुरुवार को एक बार फिर सख्त कार्रवाई की. पीटीआई के मुताबिक इसके चलते करीब 40 प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई. इस हिंसा के बाद इराक में अक्टूबर से अब तक ऐसी घटनाओं में मरने वाले लोगों की मौत का आंकड़ा 390 से ज्यादा हो चुका है. 15,000 से अधिक लोग घायल हुए हैं.

इराक के मानवाधिकार आयोग ने बताया कि कल हुई हिंसा में सबसे अधिक संख्या में लोग दक्षिणी नसिरिया में मारे गए. यहां सुरक्षा बलों ने रैलियों को खत्म करने के लिए अत्यधिक बल प्रयोग किया और इस दौरान 25 लोगों की मौत हो गई. उधर, राजधानी बगदाद में दो प्रदर्शनकारियों और नजफ में दस प्रदर्शनकारियों की मौत हुई.

नजफ में प्रदर्शनकारियों ने बुधवार को ईरान के वाणिज्य दूतावास को आग लगा दी थी. ये लोग इराक में तेहरान के राजनीतिक दबदबे का विरोध कर रहे थे. इसी बीच भीड़ मिशन में घुस गई और वहां उन्होंने ‘इराक विजयी हो’ और ‘ईरान बाहर जाए’ जैसे नारे लगाते हुए मिशन को आग लगा दी. सेना ने बताया कि इस घटना के बाद प्रधानमंत्री अदेल अब्देल माहदी ने सैन्य प्रमुखों को कानून-व्यवस्था बहाल करने के लिए विभिन्न अशांत प्रांतों में सैनिकों की तैनाती करने का आदेश दिया था.