कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि वे लोकसभा में विवादित बयान देने वाली भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह को ‘आतंकवादी’ बताने वाली अपनी टिप्पणी पर कायम हैं. पीटीआई के मुताबिक अपने खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव लाने की भाजपा की मांग के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इससे उन्हें कोई समस्या नहीं है. राहुल गांधी ने संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा, ‘गोडसे भी हिंसा का प्रयोग करता था और ये (प्रज्ञा) भी हिंसा का प्रयोग करती हैं.’ यह पूछे जाने पर क्या वह प्रज्ञा को ‘आतंकवादी’ बताने वाली टिप्पणी पर कायम हैं तो राहुल गांधी ने कहा, ‘हां. जो मैंने ट्वीट पर लिखा है, उस पर कायम हूं.’ उन्होंने यह भी कहा, ‘प्रज्ञा ने वही कहा है जिसमें वे विश्वास करती हैं.’

प्रज्ञा ठाकुर के लोकसभा में दिए गए विवादित बयान को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरूवार को ट्वीट किया था, ‘आतंकवादी प्रज्ञा ने आतंकवादी गोडसे को देशभक्त बताया. यह भारत के संसद के इतिहास का एक दुखद दिन है.’ प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर शुक्रवार को लोकसभा में हंगामे के दौरान भाजपा के निशिकांत दुबे ने कहा कि राहुल गांधी ने प्रज्ञा को आतंकी कहा था इसलिए: कांग्रेस को भी इस मामले में माफी मांगनी चाहिए. उन्होंने कांग्रेस नेता के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने की भी मांग की.

उधर, भोपाल से सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने बुधवार को लोकसभा में की गयी अपनी विवादित टिप्पणी के लिए शुक्रवार को सदन में माफी मांगी और कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया था. प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहा था.