महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि उन्होंने मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन समेत राज्य में चल रही सभी विकास परियोजनाओं की समीक्षा के आदेश दिए हैं. बुलेट ट्रेन परियोजना को उन किसानों और आदिवासियों के कड़े विरोध का सामना करना पड़ा है जिनकी भूमि अधिग्रहीत की जानी है. पीटीआई के मुताबिक उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘यह सरकार आम आदमी की है. जैसा कि आपने अभी पूछा, हां, हम बुलेट ट्रेन (परियोजना) की समीक्षा करेंगे.’ उन्होंने बताया कि उनकी सरकार राज्य की वित्तीय स्थिति पर श्वेत पत्र भी लाएगी.

उद्धव ठाकरे के मुताबिक राज्य सरकार, जिस पर करीब पांच लाख करोड़ रुपये का कर्ज है, किसानों का बिना शर्त कर्ज माफ करने को लेकर प्रतिबद्ध है. उनका कहना था कि राज्य में पूर्ववर्ती भाजपानीत सरकार की जो प्राथमिकताएं थीं उन्हें ‘हटाया’ नहीं गया है. उद्धव ठाकरे ने प्रतिशोध की राजनीति जैसी किसी बात से इनकार किया.

बीते शनिवार को ही शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस की महाराष्ट्र विकास आघाड़ी (एमवीए) गठबंधन की सरकार ने 288 सदस्यीय राज्य विधानसभा में 169 विधायकों के समर्थन से विश्वास मत जीता है. शिवसेना अक्टूबर में हुए विधानसभा चुनावों में तीन दशक से अपने सहयोगी भाजपा के साथ मैदान में उतरी थी. लेकिन ढाई साल मुख्यमंत्री पद बांटने की जिद पर उसने भाजपा से नाता तोड़ लिया.