गूगल ने दावा किया है कि हिंदी सहित भारतीय भाषाओं के अनुकूल सॉफ्टवेयर विकसित करने के चलते गूगल ने भारत में अपनी पहुंच का अच्छा खासा विस्तार किया है. गूगल इंडिया के मुताबिक, वर्ष 2014 में गूगल पर भारतीय भाषाओं का सर्च मात्र दो प्रतिशत था, वहीं 2019 में यह बढ़कर 20 फीसद हो गया. कंपनी ने यह जानकारी भी दी कि भारत में वॉइस सर्चिंग 270 प्रतिशत सालाना की रफ्तार से बढ़ रही है.

गूगल ने बताया कि हिंदी सहित भारतीय भाषाओं में इंटरनेट के उपयोग को बढ़ावा देने के लिये गूगल ने वर्ष 2014 में वॉइस सर्च इन हिंदी, 2016 में सर्च रिजल्ट पेज पर हिन्दी टैब, 2017 में क्रोम में न्यूरल मशीन ट्रांसलेशन इन क्रोम, वर्ष 2017 में गूगल असिस्टेंट तथा 2018 में नवलेखा का शुभारंभ किया. विश्व में गूगल असिस्टेंट सॉफ्टवेयर का सबसे अधिक उपयोग हिन्दी में किया जाता है. गूगल ने 2014 में वॉइस सर्च सुविधा हिन्दी में प्रारंभ की थी जबकि अंग्रेजी में वॉइस सर्च की सुविधा 2008 से उपलबध है.

एक अनुमान के अनुसार वर्तमान में भारत में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की संख्या लगभग 46 करोड़ है और भारत में ऑनलाइन आने वाले उपयोगकर्ताओं में से आज 10 में से 9 भारतीय भाषा के हैं. कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि वर्तमान में भारत में 38 करोड़ से 40 करोड़ लोग स्मार्ट फोन उपयोग करने वाले हैं.