राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने भाजपा सांसद अनंत हेगड़े के बयान को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इस्तीफा मांगा है. उसका कहना है कि अगर हेगड़े का यह दावा सही है कि देवेंद्र फडणवीस को बहुमत नहीं होने के बावजूद इसलिये मुख्यमंत्री बनाया गया ताकि केंद्र की ओर से दिए जा रहे 40 हजार करोड़ रुपये के कोष का दुरुपयोग न हो, तो प्रधानमंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिये.

पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े ने शनिवार को दावा किया था कि महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस को बहुमत नहीं होने के बावजूद मुख्यमंत्री बनाया गया, ताकि विकास कार्यों के लिये खर्च किये जाने वाला कोष केंद्र को वापस भेजा जा सके.

पीटीआई के मुताबिक सोमवार को एनसीपी के मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक ने अनंत हेगड़े के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘राज्य सरकार के लिये केंद्र को 40 हजार करोड़ रुपये का फंड लौटाना असंभव है. अगर यह सब कुछ सच है तो प्रधानमंत्री को अपने पद से इस्तीफा देना चाहिये.’ नवाब मलिक ने पत्रकारों से कहा, ‘यह न सिर्फ महाराष्ट्र बल्कि अन्य राज्यों के साथ भी अन्याय है. तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और केरल की जनता इस तरह की नाइंसाफी को बर्दाश्त नहीं करेगी.’

उधर, सोमवार को महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने हेगड़े के दावे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘मैंने मुख्यमंत्री के रूप में इस तरह का कोई नीतिगत निर्णय नहीं लिया. ऐसे सभी आरोप झूठे हैं.’