वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि सरकार भारत को निवेश का और अधिक आकर्षक स्थान बनाने के लिए नीतियों-कार्यक्रमों में आगे और भी सुधार करने को तैयार है. वे आज नई दिल्ली में भारत और स्वीडन के शीर्ष उद्यमियों की एक बैठक को संबोधित कर रही थीं. इस दौरान निर्मला सीतारमण ने अपनी सरकार द्वारा कारोबार को प्रोत्साहित करने के लिए हाल में उठाए गए विभिन्न कदमों की जानकारी दी. इसमें कंपनियों पर आयकर की दरें घटाने का बड़ा फैसला भी शामिल है.

पीटीआई के मुताबिक वित्त निर्मला सीतारमण ने कहा, ‘मैं तो केवल आप को आमंत्रित ही कर सकती हूं और आश्वासन दे सकती हूं कि भारत आगे अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में और भी सुधार करने को प्रतिबद्ध है. इसमें बैंकिंग क्षेत्र हो सकता है, बीमा और खनन क्षेत्र हो सकता है और ऐसे अनेक दूसरे क्षेत्र भी हो सकते हैं.’ वित्त मंत्री ने स्वीडन के निवेशकों को भारत में खासकर बुनियादी ढांचा विकास की परियोजनाओं में निवेश के लिए आमंत्रित किया. भारत सरकार ने पांच साल में बुनियादी ढांचे पर एक लाख करोड़ रुपये का निवेश आकर्षित करने का लक्ष्य रखा है.

निर्मला सीतारमण का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब विपक्ष अर्थव्यवस्था में सुस्ती को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर है. बीते शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में विकास दर घटकर 4.5 फीसदी रह गई है. यह बीते छह साल में इसका न्यूनतम स्तर है.