ऑटोमोबाइल सेक्टर में मंदी है तो फिर सड़कों पर ट्रैफिक जाम क्यों है?

— वीरेंद्र सिंह मस्त, भाजपा सांसद

उत्तर प्रदेश के बलिया से सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त का यह बयान लोकसभा में आया. उन्होंने कहा कि देश और सरकार को बदनाम करने के लिए लोग कह रहे हैं कि ऑटोमोबाइल सेक्टर में मंदी है. इससे पहले नवंबर में केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी ने अर्थव्यवस्था के बारे में विपक्ष की आलोचनाओं को खारिज करते हुए कहा था, ‘हवाई अड्डे और रेलगाड़ियां ठसाठस भरी हैं और लोग शादी कर रहे हैं जो यह बताता है कि देश की अर्थव्यवस्था अच्छी चल रही है.’

‘8 से 7, 7 से 6.6, 6.6 से 5.8, 5.8 से 5 और 5 से गिरकर जीडीपी 4.5 पर आ गई है . ये सरकार के अच्छे दिन हैं.’  

— पी चिदंबरम, पूर्व वित्त मंत्री

साढ़े तीन महीने बाद जमानत पर छूटते ही पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने मोदी सरकार पर हमला बोल दिया है. आज कांग्रेस मुख्यालय पर आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने यह भी कहा कि अगर बीमारी की पहचान नहीं होगी तो इलाज भी गलत होगा. पी चिदंबरम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर खामोश हैं.


‘मैं शाकाहारी आदमी हूं और मैंने कभी प्याज चखा नहीं, तो मेरे जैसे आदमी को क्या मालूम कि प्याज की क्या स्थिति है?’  

— अश्विनी चौबे, केंद्रीय मंत्री

अश्विनी चौबे का यह बयान आसमान छू रही प्याज की कीमतों पर हो रही बहस के बीच आया है. देश के कई हिस्सों में प्याज की कीमत 120 से 150 रुपये किलो तक पहुंच चुकी है. इसकी गूंज संसद में भी सुनाई दे रही है. इससे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि प्याज की बढ़ती कीमतों का उन पर व्यक्तिगत रूप से असर नहीं पड़ा है क्योंकि उनका परिवार लहसुन-प्याज नहीं खाता.