महिलाओं के खिलाफ बढ़ते यौन अपराधों के लिए अश्लील वेबसाइटों को जिम्मेदार ठहराते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मोदी सरकार से इन्हें बंद करवाने की अपील की है. शुक्रवार को बिहार के गोपाल गंज में उन्होंने कहा कि ऐसे सभी इंटरनेट प्लेटफॉर्म को बंद किया जाए जहां अश्लील वीडियो क्लीप डाले गए हैं. नीतीश कुमार के मुताबिक इन्हें देखकर लोग विकृतियों का शिकार हो जाते हैं और बलात्कार की घटनाओं को अंजाम देते हैं.

पीटीआई के मुताबिक शुक्रवार को नीतीश कुमार ‘जल जीवन हरियाली यात्रा’ के पहले चरण के अंतिम दिन राज्य के गोपाल गंज जिले में पहुंचे थे. इस यात्रा में पर्यावरण संरक्षण और जलवायु परिवर्तन से लड़ने के संदेश के साथ वह पूरे बिहार की यात्रा करने वाले हैं.

इस दौरान एक सभा को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने हैदराबाद के कुख्यात बलात्कार और हत्या मामले का जिक्र किया. उनका कहना था, ‘दुर्भाग्यपूर्ण चलन देखने को मिल रहा है... हैदराबाद, बिहार, उत्तरप्रदेश सभी स्थानों पर ऐसी घटनाएं सामने आ रही हैं. मैंने हमेशा सोशल मीडिया और तकनीक के खराब प्रभाव पर आपत्ति जताई है, जबकि इसके लाभ से भी इंकार नहीं किया जा सकता है.’

बिहार के मुख्यमंत्री ने आगे कहा, ‘मुझे इन अश्लील साइटों के बारे में बताया गया... लोग लड़कियों एवं महिलाओं के खिलाफ जघन्य अपराध करते हैं, फिल्म बनाते हैं और इन घिनौने कृत्यों को अपलोड करते हैं. जो लोग इन्हें देखते हैं, वे स्वाभाविक रूप से विकृतियों का शिकार हो जाते हैं. मैं युवकों से अपील करता हूं कि इन सबसे दूर रहें.’ नीतीश कुमार के मुताबिक वह जल्द ही केंद्र सरकार को एक पत्र लिखकर देश भर में अश्लील वेबसाइटों पर प्रतिबंध लगाने की मांग करेंगे.