नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस्तीफा दे दिया है. इस अधिकारी का नाम अब्दुर्रहमान है. मुंबई में महाराष्ट्र राज्य मानवाधिकार आयोग में पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) रैंक के अधिकारी अब्दुर्रहमान ने एक ट्वीट कर अपने इस्तीफे की जानकारी दी है. उनका कहना है कि नागरिकता संशोधन विधेयक संविधान के बुनियादी ढांचे के खिलाफ है. उन्होंने इसे भारत की धार्मिक बहुलता के खिलाफ भी बताया है.

अब्दुर्रहमान नागरिकता संशोधन विधेयक को लोकसभा में रखे जाने के बाद से ही इसका विरोध कर रहे थे. उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह पर इतिहास को तोड़ने-मरोड़ने और गलत जानकारी फैलाने का भी आरोप लगाया है.

लोकसभा के बाद कल राज्यसभा में भी नागरिकता संशोधन विधेयक पास हो गया. राज्यसभा में इस विधेयक के पक्ष में 125 वोट और विरोध में 105 वोट पड़े. इस दौरान सदन में खूब हंगामा हुआ. विधेयक को पेश करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि देश के मुसलमानों को इससे चिंतित होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि वे भारतीय नागरिक थे, हैं और रहेंगे. इससे पहले भाजपा संसदीय दल की एक बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस विधेयक को ऐतिहासिक करार दिया. उन्होंने कहा कि इसका विरोध करने वाले पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं. उधर, कांग्रेस ने इसे भारत की आत्मा पर हमला बताया.