लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी नागरिकता संशोधन विधेयक के पारित होने की खबर आज सभी अखबारों ने पहले पन्ने पर छापी है. विधेयक के पक्ष में 125 वोट और विरोध में 105 वोट पड़े. इस दौरान सदन में खूब हंगामा हुआ. विधेयक को पेश करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि देश के मुसलमानों को इससे चिंतित होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि वे भारतीय नागरिक थे, हैं और रहेंगे. इससे पहले भाजपा संसदीय दल की एक बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस विधेयक को ऐतिहासिक करार दिया. उन्होंने कहा कि इसका विरोध करने वाले पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं. उधर, कांग्रेस ने इसे भारत की आत्मा पर हमला बताया. इसके अलावा नागरिकता संशोधन विधेयक पर पूर्वोत्तर में उबाल की खबर भी अखबारों के पहले पन्ने पर है. इसके चलते त्रिपुरा में सेना बुलाई गई है तो असम में उसे तैयार रहने को कहा गया है.

नेताओं को अपने लिए चाहिए लुटियन जोन में भी अलग लेन चाहिए

भले ही राजधानी दिल्ली में अभी तक लेन ड्राइविंग सुनिश्चित न हो पाई हो, लेकिन माननीय लुटियन जोन में भी अपने लिए अलग लेन चाहते हैं. दैनिक जागरण के मुताबिक कांग्रेस के आनंद शर्मा की अध्यक्षता वाली गृह मंत्रालय की एक समिति ने यह सिफारिश की है. 31 सांसदों वाली इस समिति ने बुधवार को संसद के दोनों सदनों में अपनी रिपोर्ट पेश की है. समिति का मानना है कि दिल्ली को जाम से निजात दिलाने के लिए वीआइपी के लिए अलग लेन होनी चाहिए. समिति ने दिल्ली में वाहनों की बढ़ती संख्या पर चिंता प्रकट करते हुए इस पर अंकुश लगाने के लिए क्रांतिकारी कदमों का सुझाव दिया है. इनमें वीआइपी और दुपहिया वाहनों के लिए अलग लेन शामिल हैं. इसके अलावा उसने पुराने वाहन को डिस्पोज किए बगैर नया वाहन खरीदने वालों के वाहनों का पंजीकरण न करने की भी सिफारिश की है.

रिसैट-2बी का सफल लॉन्च

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने रडार इमेजिंग अर्थ सैटेलाइट (रिसैट-2बी) बुधवार को सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया. इसे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से पीएसएलवी-सी46 रॉकेट से सुबह 5:27 बजे प्रक्षेपित किया गया. दैनिक भास्कर के मुताबिक यह सैटेलाइट खुफिया निगरानी, कृषि, वन और आपदा प्रबंधन में मददगार होगा. इसरो के सूत्रों के मुताबिक, बादल छाए होने पर रेगुलर रिमोट सेंसिंग या ऑप्टिकल इमेजिंग सैटेलाइट जमीन पर मौजूद चीजों की स्थिति ठीक से नहीं दर्शा पाते. यह नया सैटेलाइट इस कमी को पूरा करेगा. इससे आपदा राहत कार्य में लगे लोगों और सुरक्षाबलों को काफी मदद मिलेगी.

अयोध्या मामले में पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई आज

सुप्रीम कोर्ट आज अयोध्या मामले में दिए गए अपने फैसले पर पुनर्विचार के लिए दायर की गई याचिकाओं पर सुनवाई करेगा. द टेलिग्राफ ने यह खबर दी है. बीते महीने शीर्ष अदालत ने अयोध्या की विवादित जमीन हिंदू पक्ष को देने का आदेश दिया था. उसने मस्जिद के निर्माण के लिए मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही किसी खास जगह पर पांच एकड़ जमीन दिए जाने का फैसला भी सुनाया था. इस मामले में पुनर्विचार याचिका दाखिल करने वाले संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद का कहना है कि मुस्लिम समाज का एक बड़ा वर्ग इस फैसले से संतुष्ट नहीं है.