ब्रिटेन में ब्रेक्जिट के गतिरोध को दूर करने के लिए आज आम चुनाव हो रहा है. ब्रेक्जिट यानी यूरोपियन संघ से अलग होने के मुद्दे पर 2016 में हुए जनमत संग्रह के बाद से देश राजनीतिक अस्थिरता से जूझ रहा है. पांच साल से भी कम समय में यह तीसरा आम चुनाव है. ब्रिटेन की संसद के निचले सदन हाउस ऑफ कॉमंस में 650 सीटों के लिए 3,322 उम्मीदवार मैदान में हैं.

पीटीआई के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय समयानुसार रात 10 बजे मतदान खत्म होने पर मतगणना शुरू होगी. अधिकतर नतीजे शुक्रवार सुबह तक घोषित हो जाएंगे. अगर हाउस ऑफ कॉमंस में किसी पार्टी के आधे सांसद (326) चुनकर आते हैं तो वही आमतौर पर सरकार बनाती है. अगर किसी भी पार्टी के पास बहुमत नहीं हो तो वह एक या दो अन्य दलों के अधिकतर सांसदों का गठबंधन बनाकर सरकार बना सकती है.

ब्रिटेन के मौजूदा प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन अपनी पार्टी के ‘ब्रेक्जिट पूरा हो’ के संदेश पर ध्यान केंद्रित किए हुए हैं. उधर, विपक्षी दल अंतिम ब्रेक्जिट समझौते पर फिर से जनमत संग्रह कराना चाहते हैं. वैसे उनका ज्यादा जोर संकटग्रस्त राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) जैसे घरेलू मुद्दों पर है. 31 अक्टूबर की अंतिम समयसीमा तक ब्रेक्जिट लागू करने में नाकाम रहने के बाद बोरिस जॉनसन ने 12 दिसंबर को चुनाव कराने की घोषणा की थी.