बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन ने गुरुवार से शुरू होने वाला भारत का अपना तीन दिवसीय दौरा रद्द कर दिया है. बांग्लादेश के आधिकारिक बयान में कहा गया है कि विदेश मंत्री ने अपना भारत दौरा व्यस्तताओं के चलते रद किया है, लेकिन राजनयकि सूत्रों के मुताबिक, भारत की संसद में नागरिकता (संशोधन) विधेयक के पारित होने से पैदा हुए हालात को देखते हुए उन्होंने अपनी यात्रा रद्द की है.

विदेश मंत्रालय द्वारा पहले जारी की गई एक सूचना के अनुसार, बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन को गुरुवार शाम पांच बजकर 20 मिनट पर भारत पहुंचना था.लेकिन, ढाका में जारी एक बयान में मोमेन ने कहा कि उन्हें अपनी व्यस्तताओं के चलते भारत की यात्रा रद्द करनी पड़ी है.उन्होंने कहा,‘ मुझे भारत का दौरा रद्द करना पड़ा क्योंकि मुझे ‘बुद्धिजीवी दिवस’ और ‘विजय दिवस’ में भाग लेना है. इसके अलावा हमारे राज्य मंत्री मैड्रिड में है और विदेश सचिव हेग में है.’

नागरिकता (संशोधन) विधेयक को भारत की संसद ने पास कर दिया है. इस विधेयक के अनुसार, अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान में धार्मिक प्रताड़ना के कारण 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए गैर मुस्लिम शरणार्थी - हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने का विधेयक में प्रावधान किया गया है. विधेयक के विरोध में असम और पूर्वोत्तर के कई राज्यों में व्यापक रूप से प्रदर्शन हो रहे हैं.

बांग्लादेश ने इस बात पर भी आपत्ति जताई थी कि भारत की संसद में कहा गया है कि उसके यहां अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न होता है. इसके अलावा कयास लगाए जा रहे हैं कि एनआरसी और नागरिकता संशोधन विधेयक के प्रावधानों के चलते भारत बांग्लादेश से आए घुसपैठियों को वापस लेने की बात कह सकता है.