भारत ने शुक्रवार को घोषणा की कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के उनके समकक्ष शिंजो आबे के बीच होने वाली सालाना शिखर वार्ता स्थगित हो गई है. यह शिखर वार्ता 15 से 17 दिसंबर तक गुवाहाटी में होने वाली थी. नरेंद्र मोदी के साथ मुलाकात के लिए शिंजो आबे रविवार को भारत के तीन दिवसीय दौरे पर असम के इस शहर पहुंचने वाले थे. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के प्रस्तावित भारत दौरे के संबंध में दोनों पक्षों ने निकट भविष्य में पारस्परिक रूप से सुविधाजनक तिथि पर दौरा रखने का फैसला किया है.’

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर असम सहित पूरे पूर्वोत्तर में हालात गरमाए हुए हैं. गुवाहाटी सहित कई शहरों मे जोरदार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. कर्फ्यू के बावजूद हजारों प्रदर्शनकारी सड़कों पर हैं. इसके मद्देनजर खबरें आई थीं कि सुरक्षा हालात के मद्देनजर जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अपना भारत दौरा रद्द कर सकते हैं. कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा जा रहा था कि स्थिति को देखते हुए शिखर वार्ता के लिए किसी दूसरे स्थान को भी चुना जा सकता है. नागरिकता संशोधन विधेयक पर पूर्वोत्तर में तनाव के चलते बांग्लादेशी विदेश मंत्री ने भी अपना भारत दौरा रद्द कर दिया था.

फिलहाल असम, मेघालय और त्रिपुरा में हालात तनावपूर्ण हैं. असम में स्‍कूलों और कॉलेजों को 22 दिसंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है. कई जिलों में इंटरनेट सेवा पर भी रोक है. प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को यात्रियों से भरी एक ट्रेन में आग लगाने की कोशिश की. सेना के दखल के बाद स्थिति काबू में आई. उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रदर्शनकारियों से शांति की अपील की है. उन्होंने कहा है कि नागरिकता संशोधन विधेयक से असम के हितों पर कोई आंच नहीं आएगी.