असम के गुवाहाटी में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शनों के मद्देनजर लगाए गए कर्फ्यू में आज ढील दी गई है. यह ढील सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक लागू रहेगी. पीटीआई के मुताबिक पुलिस ने यह जानकारी दी है. इस दौरान दुकानों के बाहर लंबी कतारें नजर आईं. ऑटो-रिक्शा और साइकिल-रिक्शा सड़कों पर नजर आए लेकिन बसें अब भी नदारद रहीं. शहर में पेट्रोल पंप भी खोल दिए गए हैं. इन पर भी वाहनों की लंबी कतारें दिखीं. हालांकि, स्कूल और कार्यालय अब भी बंद हैं. नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ गुवाहाटी सहित पूरे असम में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए थे. इसके बाद शहर में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगा दिया गया था.

उधर, नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध पूर्वोत्तर के दूसरे राज्यों में भी फैलता दिख रहा है. नगालैंड में नगा छात्र संघ (एनएसएफ) ने इस मुद्दे पर आज छह घंटे के बंद का आह्वान किया है. बंद सुबह छह बजे शुरू हो गया. एनएसएफ ने एक बयान में कहा, ‘यह बंद संसद में विवादास्पद कैब पारित किए जाने के खिलाफ नगा लोगों के असंतोष को दर्शाने के लिए बुलाया गया है. यह विधेयक पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों के हितों एवं भावनाओं के खिलाफ है.’ एनएसएफ ने मणिपुर, असम और नगालैंड में अपनी सभी इकाइयों से इस बंद के मद्देनजर सभी आवश्यक कदम उठाने को कहा है.