जम्मू-कश्मीर के तीन बार मुख्यमंत्री रहे फारुक अब्दुल्ला की हिरासत अवधि शनिवार को तीन महीने के लिए और बढ़ा दी गई है. फारुक अब्दुल्ला उपकारागार में परिवर्तित अपने घर में रहेंगे. जम्मू-कश्मीर के अधिकारियों ने यह जानकारी दी.

फारुक अब्दुल्ला पांच बार सांसद रहे हैं. केंद्र ने पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा हटाने और उसके विभाजन की घोषणा की थी. उसी दिन से फारुक अब्दुल्ला हिरासत में हैं. अधिकारियों ने बताया कि नेशनल कांफ्रेस अध्यक्ष पर पीएसए के ‘सरकारी आदेश’ के तहत मामला दर्ज किया गया है जो किसी व्यक्ति को बगैर सुनवाई के तीन से छह महीने तक जेल में रखने की इजाजत देता है.

नेशनल कांफ्रेस (नेकां) के नेता फारुक अब्दुल्ला पर सख्त जन सुरक्षा कानून (पीएसए) पहली बार 17 सितंबर को लगाया गया था. फारूक अब्दुल्ला पर पीएसए तब लगाया था जब एमडीएमके नेता वाइको ने इस संबंध में एक याचिका उच्चतम न्यायालय में दायर की थी. याचिका में वाइको ने आरोप लगाया था कि नेकां नेता को गैर कानूनी तरीके से हिरासत में रखा गया है.