निर्भया मामले में एक दोषी की पुनर्विचार याचिका खारिज, सुप्रीम कोर्ट ने कहा – फांसी की सजा बदलने का कोई आधार नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया मामले के एक दोषी की पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी है. यानी उसकी फांसी की सजा बरकरार रखी गई है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फैसले पर पुनर्विचार का कोई आधार नहीं है. दोषी की दलील थी कि उसके खिलाफ मीडिया ट्रायल हुआ है और फांसी की सजा के लिए सामाजिक दबाव है. हालांकि अदालत ने इसे ठुकरा दिया. निर्भया की मां भी इस याचिका के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची थीं. उनका कहना था कि पुनर्विचार याचिका महज सजा टालने की कवायद है. 2012 के इस मामले में छह लोग दोषी पाए गए थे. चार दोषियों को मौत की सजा सुनाई जा चुकी है. एक दोषी नाबालिग था जो अपनी सजा पूरी कर चुका है. वहीं एक अन्य दोषी ने जेल में ही आत्महत्या कर ली थी.

एनसीएलटी का बड़ा फैसला, साइरस मिस्त्री को टाटा समूह के मुखिया के पद पर बहाल किया

राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण यानी एनसीएलटी ने साइरस मिस्त्री को टाटा समूह के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में बहाल करने का आदेश दिया है. उसने इस पद पर नटराजन चंद्रशेखरन की नियुक्ति को अवैध करार दिया है. 2016 में साइरस मिस्त्री को हटाकर नटराजन चंद्रशेखरन को टाटा समूह का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया था. टाटा संस ने साइरस मिस्त्री पर गोपनीयता नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाया था. टाटा समूह के डेढ़ सदी के इतिहास में ये पहली बार था जब इसके किसी मुखिया को इस तरह हटाया गया. साइरस मिस्त्री ने इसके खिलाफ एनसीएलटी में याचिका दायर की थी. अपने फैसले में एनसीएलटी ने साइरस मिस्त्री को हटाए जाने को दमनकारी बताया है. टाटा संस को इस फैसले के खिलाफ अपील करने के लिए चार हफ्ते का वक्त दिया गया है.

सुप्रीम कोर्ट का नए नागरिकता कानून पर रोक लगाने से इनकार, कहा - पहले इसकी वैधता की जांच होगी

सुप्रीम कोर्ट ने नए नागरिकता कानून पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की अगुवाई वाली एक तीन सदस्यीय पीठ ने कहा कि पहले इसकी संवैधानिक वैधता परखी जाएगी. उसने इस सिलसिले में केंद्र सरकार को एक नोटिस भी भेजा है. मामले की अगली सुनवाई के लिए 22 जनवरी की तारीख तय की गई है. सुप्रीम कोर्ट में नए नागरिकता कानून के खिलाफ 60 याचिकाएं दायर हुई हैं. इनमें इस कानून को संविधान के खिलाफ बताया गया है. नागरिकता संशोधन कानून में पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भारत आने वाले गैरमुस्लिमों को आसानी से नागरिकता देने का प्रावधान है. लेकिन इसका तीखा विरोध हो रहा है.

जयपुर बम धमाकों के मामले में चार दोषी करार, सजा कल सुनाई जाएगी

करीब एक दशक पुराने जयपुर बम धमाकों के मामले में फैसला आ गया है. अदालत ने चार आरोपितों को दोषी ठहराया है जबकि एक को दोषमुक्त करार दिया गया है. दोषियों की सजा पर कल बहस होगी. इस मामले की सुनवाई कर रही विशेष अदालत ने पिछले महीने सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था. राजस्थान की राजधानी जयपुर में 13 मई 2008 की शाम 15 मिनट के अंतराल पर सिलसिलेवार आठ बम धमाके हुए थे. इन धमाकों में 70 लोगों की मौत हो गई थी और 185 अन्य घायल हुए थे.

श्रीलंका में डेंगू महामारी के स्तर पर पहुंचा, अब तक 120 लोगों की मौत

श्रीलंका में डेंगू महामारी के स्तर पहुंच गया है. अब तक इससे 120 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं 87 हजार से भी ज्यादा लोग इस बीमारी से पीड़ित बताए जा रहे हैं. इनमें से करीब 18 हजार अकेले राजधानी कोलंबो में हैं. वहीं देश के जाफना इलाके में पहली बार डेंगू का प्रकोप हुआ है. स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि इस साल इस बीमारी के महामारी के स्तर पर पहुंचने की वजह औसत से ज्यादा बारिश है. उन्होंने ये भी बताया कि अगले सप्ताह ज्यादा जोखिम वाले क्षेत्रों में एक नया राष्ट्रीय डेंगू कार्यक्रम शुरू किया जाएगा.