राजस्थान के जयपुर की एक विशेष अदालत ने 2008 के जयपुर बम विस्फोट मामले में चार दोषियों को फांसी की सजा सुनाई है. इन चारों के नाम मोहम्मद सरवर आजमी, मोहम्मद सैफ, मोहम्मद सलमान और सैफुर्रहमान हैं.

पीटीआई के मुताबिक शुक्रवार शाम विशेष अदालत के न्यायाधीश अजय कुमार शर्मा ने यह सजा सुनाई. इसके बाद बचाव पक्ष के वकील ने कहा कि अदालत के इस फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी जाएगी.

लोक अभियोजक श्री चंद ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि चारों दोषियों को अलग-अलग धाराओं में अलग-अलग सजा दी गयी है. उन्होंने कहा, ‘जिन-जिन धाराओं के तहत अपराध के मामले दर्ज थे, उनके हिसाब से (दोषियों को) अलग-अलग सजा दी गयी है. लेकिन, चारों को आईपीसी की धारा 302 व विधि विरुद्ध क्रियाकलाप की धारा 16 वन ए के तहत फांसी की सजा दी गयी है और 50-50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है.’

बीते बुधवार को अदालत ने जयपुर बम विस्फोट मामले में चार आरोपितों मोहम्मद सरवर आजमी, मोहम्मद सैफ, मोहम्मद सलमान और सैफुर्रहमान को दोषी ठहराया था, जबकि एक आरोपी शाहबाज हुसैन को दोषमुक्त करार दिया.

राजस्थान की राजधानी जयपुर में 13 मई 2008 को शाम लगभग सवा सात बजे 15 मिनट में सिलसिलेवार आठ बम धमाके हुए थे. इन धमाकों में कम से कम 70 लोगों की मौत हुई थी और 185 अन्य घायल हुए थे. पहला धमाका चांदपोल हनुमान मंदिर और दूसरा धमाका सांगानेरी गेट हनुमान मंदिर पर हुआ था. इसके बाद बड़ी चौपड़, जौहरी बाजार, छोटी चौपड़ और तीन अन्य स्थानों पर धमाके हुए थे. राज्य सरकार की सिफारिश पर हाई कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए विशेष अदालत गठित की थी.