पश्चिम बंगाल के मंत्री और जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रदेश अध्यक्ष सिद्दिकउल्ला चौधरी ने गृह मंत्री अमित शाह को कड़ी चेतावनी दी है. उन्होंने कहा है कि अगर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को फौरन वापस नहीं लिया गया तो जब भी अमित शाह कोलकाता के दौरे पर आयेंगे, उन्हें हवाई अड्डे से बाहर कदम नहीं रखने दिया जाएगा.

पीटीआई के मुताबिक सिद्दिकउल्ला चौधरी ने रविवार को कोलकाता में जमीयत उलेमा-ए-हिंद की एक बड़ी रैली को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि यह विवादित कानून मानवता और देश में बरसों से रह रहे नागरिकों के खिलाफ है. अगर जरूरत पड़ी तो हम लोग उन्हें (अमित शाह को) शहर के हवाईअड्डे के बाहर कदम नहीं रखने देंगे. उन्हें रोकने के लिए हम लोग एक लाख लोग को वहां जमा कर सकते हैं.’ हालांकि, चौधरी ने दावा किया उनके संगठन का यह प्रदर्शन लोकतांत्रिक और शांतिपूर्ण होगा.

पश्चिम बंगाल के पुस्तकालय सेवा मंत्री ने आगे कहा, ‘हम लोग हिंसक प्रदर्शनों में यकीन नहीं करते हैं, लेकिन निश्चित रूप से हम लोग सीएए और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) का जी जान से विरोध करेंगे.’ इस दौरान चौधरी का यह भी कहना था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 56 इंच के सीने ने देश के लोगों को निराश किया है क्योंकि वह नफरत और विभाजन की राजनीति कर रहे हैं.

रविवार को कोलकाता के रानी रासमोनी एवेन्यू में हुई इस रैली में जमीयत उलेमा-ए-हिंद के नेताओं ने सीएए और एनआरसी के विरोध में सड़कों पर उतरने के लिए सूबे की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का शुक्रिया अदा किया.