सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के मामले में पांच लोगों को मृत्युदंड सुनाया गया है. लेकिन, इस संबंध में आरोपी दो जानी-मानी हस्तियों को दोषमुक्त करार दिया गया है. सऊदी अरब के लोक अभियोजक ने सोमवार को यह जानकारी दी.

सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी अमेरिका में रहते थे और वॉशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार थे. उन्हें आखिरी बार दो अक्टूबर 2018 को इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब के दूतावास के बाहर देखा गया था. इसके बाद तुर्की के एक अखबार ने दावा किया था कि सऊदी अरब की एक टीम जमाल खशोगी को रियाद ले जाना चाहती थी. लेकिन उनके इन्कार करने के बाद दूतावास में ही उनकी हत्या कर दी गई. खशोगी की लाश नहीं बरामद हुई थी. इसको लेकर आरोप लगे थे कि लाश को तेजाब से जला दिया गया था.

खशोगी की हत्या के आरोपों के घेरे में सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान भी हैं. संयुक्त राष्ट्र की हत्याकांड से जुड़ी एक रिपोर्ट में भी कहा गया था कि सऊदी अरब के उच्चाधिकारी इस कत्ल से जुड़े हुए हैं. हालांकि, सऊदी अरब की सरकार इन आरोपों से इन्कार करती रही है. वैसे प्रिंस सलमान नैतिक रूप से इस हत्याकांड की जिम्मेदारी ले चुके हैं, लेकिन उन्होंने भी इससे इनकार किया कि यह उन्होंने करवाई थी.