नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ राष्ट्रव्यापी प्रदर्शनों पर अभिनेता सैफ अली खान ने कहा कि एक नागरिक होने के नाते वह देश में मौजूदा हालात को लेकर चिंतित हैं.

सैफ अली खान ने ‘पीटीआई’ को दिए गए एक साक्षात्कार में कहा, ‘शांतिपूर्वक प्रदर्शन करना हर किसी का अधिकार है और न करना भी हर व्यक्ति का अधिकार है.’ सैफ अली खान ने देश में राजनीतिक परिदृश्य पर कहा, ‘कई चीजें है जिससे हम चिंतित हैं, देखता हूं कि ये सब कहां जाकर खत्म होगा.’ सैफ ने कहा कि वह स्थिति को बेहतर तरीके से समझने की कोशिश कर रहे हैं और अच्छी तरह से समझने के बाद ही अपनी राय बनाएंगे. अभिनेता ने कहा, ‘प्रेस में काफी कुछ लिखा गया है, कई चीजें हैं जिसने हमें चिंता करने की वजह दी है.’ उन्होंने कहा कि कई मायनों में भारत को खुद को परिभाषित करना होगा.

49 वर्षीय अभिनेता बॉलीवुड के उन चुनिंदा कलाकारों में से एक हैं जिन्होंने नये कानून के खिलाफ प्रदर्शनों के कारण फैली अशांति पर प्रतिक्रिया दी है. फिल्म उद्योग के नामी कलाकारों की चुप्पी को लेकर सोशल मीडिया पर सवाल उठ रहे हैं लेकिन ‘सेक्रेड गेम्स’ के स्टार ने कहा कि हर किसी के पास अपने विचार अभिव्यक्त करने या न करने का अधिकार है. फरहान अख्तार, परिणति चोपड़ा, ऋचा चड्ढा, मोहम्मद जीशान अय्यूब, अनुराग कश्यप, शबाना आजमी, जावेद अख्तर, ऋतिक रोशन और स्वरा भास्कर जैसी कई बॉलीवुड हस्तियों ने भी संशोधित नागरिकता कानून को लेकर अपनी नाखुशी जाहिर की है.