‘बेहतर सड़क, ट्रांसपोर्ट पर नागरिकों का हक है. इसको सुरक्षित रखना भी नागरिकों का दायित्व है.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बात लखनऊ में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के मौके पर उनकी प्रतिमा के अनावरण कार्यक्रम में कही. उनका कहना था कि उत्तर प्रदेश में जिस तरह कुछ लोगों ने नागरिकता कानून के विरोध के नाम पर हिंसा की और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया, वह ठीक नहीं था. प्रधानमंत्री ने कहा, ‘एक बार घर में बैठकर सवाल पूछें कि क्या यह रास्ता ठीक था? जो कुछ जलाया गया, बर्बाद किया गया, क्या उनके बच्चों के काम आने वाला नहीं था?’

‘संविधान की रक्षा के लिए आज हम सब यहां एकत्रित हुए हैं.’

— कमलनाथ, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री

कमलनाथ ने यह बात नए नागरिकता कानून के विरोध में भोपाल में आयोजित कांग्रेस के एक शांति मार्च की अगुवाई करते हुए कही. उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश की जनता को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है. वहीं विपक्षी भाजपा ने इस कवायद पर सवाल उठाए हैं. विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने इस मार्च को अशांति फैलाने वाला बताया.

‘सौरव गांगुली का चार देशों के क्रिकेट टूर्नामेंट का विचार ‘फ्लाप’ होगा.’  

— राशिद लतीफ, पाकिस्तान के पूर्व कप्तान

राशिद लतीफ ने यह बात अपने यूट्यूब चैनल पर कही. उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह का टूर्नामेंट खेलकर ये चार देश दूसरे सदस्य देशों को अलग करने की कोशिश कर रहे हैं. पिछले सप्ताह सौरव गांगुली ने कहा था कि क्रिकेट के बड़े देशों के बीच 2021 तक चार देशों की टूर्नामेंट करने की योजना पर काम हो रहा है. उन्होंने कहा था, ‘इस सुपर सीरीज की शुरूआत 2021 में होगी जिसमें भारत, इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया- के अलावा एक और टीम हिस्सा लेगी.’