पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को कहा कि जब तक संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को वापस नहीं लिया जाता तब तक राज्य में शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी रहेंगे.

ममता बनर्जी ने मध्य कोलकाता में राजा बाजार से मलिक बाजार तक विरोध मार्च का नेतृत्व भी किया. उन्होंने आरोप लगाया कि सीएए के खिलाफ बोल रहे छात्रों को भाजपा डरा रही है. ममता बनर्जी ने छात्रों से कहा, ‘किसी से डरें नहीं. मैं भाजपा को आगाह कर रही हूं कि वह आग से नहीं खेले.’ उन्होंने आगे कहा, ‘हम सीएए और एनआरसी का विरोध कर रहे जामिया मिल्लिया इस्लामिया, आईआईटी कानपुर और अन्य विश्वविद्यालयों के छात्रों के प्रति एकजुटता व्यक्त करते हैं.’

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने भाजपा पर अपने वादे पूरे नहीं करने का आरोप लगाया. उन्होंने मंगलुरु में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन में पुलिस गोलीबारी में मारे गए दो लोगों के परिवारों के लिए मुआवजा रोकने संबंधी कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के बयान का भी जिक्र किया. येदियुरप्पा ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा था कि यदि जांच में 19 दिसंबर को प्रदर्शनों में हुई हिंसा में दोनों लोगों की संलिप्तता साबित होती है तो उनके परिवारों को एक भी रुपया नहीं दिया जाएगा. जबकि पहले कर्नाटक सरकार ने दोनों मृतकों के परिवार को मुआवजा देने की घोषणा की थी.