मारुति-सुज़ुकी की लोकप्रिय कॉम्पैक सेडान (स्विफ्ट) डिज़ायर ने बीस लाख यूनिट बिक्री का आंकड़ा पार कर लिया है. यह उपलब्धि हासिल करने वाली (स्विफ्ट) डिज़ायर कंपनी की तीसरी गाड़ी है. इससे पहले मारुति की हैचबैक ऑल्टो और स्विफ्ट भी यह आंकड़ा पार कर चुकी हैं. मारुति ने स्विफ्ट डिज़ायर को सबसे पहले मार्च-2008 में बाज़ार में उतारा था. तभी से यह कार सेगमेंट के शीर्ष पर बनी हुई है. फरवरी-2012 में स्विफ्ट डिज़ायर की दूसरी पीढ़ी लॉन्च की गई थी और 2017 में कंपनी ने इस कार में आमूलचूल बदलाव के साथ इसका नाम बदलकर सिर्फ़ ‘डिज़ायर’ कर दिया था.

बाज़ार में (स्विफ्ट) डिज़ायर की जबरदस्त मांग को इससे समझा जा सकता है कि ऑटो सेक्टर में भारी मंदी के बावजूद इस साल अप्रैल से नवंबर तक इस कार की 1.20 लाख यूनिटों की बिक्री हुई थी. बीते कुछ सालों में ऐसे भी कुछ मौके आए हैं जब बिक्री के मामले में डिज़ायर ने देश की सबसे ज्यादा बिकने वाली ऑल्टो तक को पीछे छोड़ दिया.

परफॉर्मेंस के मामले में इस कार के पेट्रोल वेरिएंट में बीएस-4 मानकों वाला 1.2-लीटर का पेट्रोल इंजन मिलता है जो 82 बीएचपी की अधिकतम पॉवर पैदा करता है, वहीं कार के डीज़ल वेरिएंट में 1.3-लीटर का इंजन है जो 74 बीचपी पॉवर उत्पन्न करने में सक्षम है. कंपनी ने कार के इंजन को 5-स्पीड मैनुअल और 5-स्पीड एएमटी ट्रांसमिशन से लैस किया है. आने वाले समय में मारुति अपनी दूसरी गाड़ियों की ही तरह डिज़ायर के भी डीज़ल वर्ज़न का उत्पादन रोकते हुए सिर्फ़ इसका पेट्रोल वर्ज़न जारी रखेगी जो बीएस-6 मानकों पर खरा उतरेगा. बाज़ार में इस कार के मौजूदा मॉडल की कीमत 5.83 लाख रुपए से लेकर 9.53 लाख रुपए तक जाती है.

रेनो की एमपीवी लॉजी की बिक्री बंद

फ्रेंच ऑटोमोबाइल कंपनी रेनो ने भारत में अपनी एमपीवी लॉजी की बिक्री बंद करने का फैसला लिया है. रेनो ने लॉजी को भारत में 2015 में लॉन्च किया था. तब से इस कार का प्रदर्शन औसत से काफी नीचे रहा है. रेनो के मुताबिक हाल-फिलहाल उसकी बीएस-6 मानकों वाले डीज़ल इंजन को तैयार करने की कोई योजना नहीं है और लॉजी का कोई पेट्रोल वर्ज़न नहीं आता है, इसलिए उसे भारत में इस कार की बिक्री रोकनी पड़ेगी.

यदि इस साल की बात करें तो अप्रैल से नवंबर तक रेनो लॉजी की सिर्फ़ 315 यूनिट ही बिक पाई थीं. लेकिन लॉजी रेनो की इकलौती कार नहीं है जो बिक्री की समस्या से जूझ रही है. कंपनी की एक अन्य एमपीवी कैप्चर भी अपेक्षित प्रदर्शन करने में नाकाम रही है. हालंकि रेनो कैप्चर का उत्पादन बंद नहीं करने वाली है. अपनी दूसरी गाड़ियों की तरह रेनो भारत में कैप्चर के पेट्रोल वर्ज़न की बिक्री जारी रखेगी.

किआ मोटर्स की एमपीवी कार्निवल का टीज़र

अपनी कॉम्पैक एसयूवी सेल्टॉस के भारत में शानदार प्रदर्शन से उत्साहित किआ मोटर्स ने अपनी एमपीवी कार्निवल का टीज़र पेश किया है. इस वीडियो में कार के फ्रंट में कंपनी की सिग्नेचर स्टाइल वाली टाइगर नोज़ ग्रिल दिखाई देती है जो प्रोजेक्टर हैडलैंप्स और डीआरएल से जुड़ी है. यहां आपको बड़े आइसक्यूब आकार के एलईडी फॉग लैंप्स मिलते हैं. वहीं रियर लुक की बात करें तो कार्निवल में स्पिलिट एलईडी टेल लैंप्स दिखाई दे रहे हैं जिनके साथ दिया गया क्रोम वर्क इसे प्रीमियम टच देता है. कार के 10-स्पॉक डुअल टोन अलॉय व्हील्स भी काफी स्टाइलिश नज़र आते हैं.

Play

टीज़र में कार्निवल 6-सीटर नज़र आती है. लेकिन कयास लगाए जा रहे हैं कि किआ बाद में इस कार के 7-सीटर और 8-सीटर वर्ज़न भी पेश करेगी. टीज़र के आधार पर कहा जा रहा है कि इस कार में इलेक्ट्रिक स्लाइडिंग रियर डोर, पैनारोमिक सनरूफ, एंड्रॉइड ऑटो और एपल कार प्ले सपोर्टेबल टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, रियर सीट एंटरटेनमेंट स्क्रीन्स, क्रूज़ कंट्रोल, ऑटो हैडलैंप्स व वाइपर्स, की-लैस एंट्री और पुश बटन स्टार्ट जैसे फीचर्स मिलेंगे.

कार्निवल के साथ किआ ने 2.2 लीटर क्षमता का सीआरडीआई डीज़ल इंजन दिया है जो 202 पाीएस पॉवर के साथ 440 एनएम का टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. संभावना जताई जा रही है कि यह फ्रंट व्हील ड्राइव इंजन 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स के साथ 8-स्पीड ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन बॉक्स से जोड़ा जाएगा. किआ अपनी इस ख़ूबसूरत पेशकश की कीमत 27 लाख रुपए से लेकर 36 लाख रुपए के बीच तय कर सकती है. बाज़ार में रेनो कार्निवल का मुकाबला टोयोटा इनोवा क्रिस्टा से होने वाला है.

मारुति-सुज़ुकी ब्रेज़ा का फेसलिफ्ट वर्ज़न स्पॉट

इस हफ़्ते मारुति-सुज़ुकी से जुड़ी एक और प्रमुख ख़बर यह है कि इसकी लोकप्रिय कॉम्पैक एसयूवी ब्रेज़ा का फेसलिफ्ट वर्ज़न स्पॉट किया गया है. संभावना है कि मारुति नई ब्रेज़ा को फरवरी-2020 में होने वाले ऑटो एक्स्पो के दौरान लॉन्च कर सकती है. ब्रेज़ा की सामने आई तस्वीरों को देखते हुए जानकारों का कहना है कि नई ब्रेज़ा में मामूली कॉस्मेटिक बदलाव किए गए हैं जिनमें- नया फ्रंट बंपर, राउंड फॉग लैंप्स के साथ फ्रेश हाउसिंग, स्लीक एलईडी हैडलैंप्स, ग्रिल के साथ ट्विन क्रोम स्लेट और नई डिज़ाइन के 16-इंच अलॉय व्हील्स शामिल हैं. इनके अलावा ब्रेज़ा में एपल कार प्ले और एंड्रॉइड ऑटो सपोर्टेबल बिल्कुल नया टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम मिलने की संभावना है.

ब्रेज़ा-2020 में मिलने वाले प्रमुख बदलाव की बात करें तो वह इस कार के हुड के नीचे नज़र आता है. इस कार में बीएस-4 मानकों वाले 1.3 लीटर क्षमता के डीडीआईएस डीज़ल इंजन की बजाय बीएस-6 मानकों वाला 1.5 लीटर क्षमता का के15बी पेट्रोल इंजन दिया गया है जो एसएचवीएस हाइब्रिड सिस्टम से जुड़ा होगा. यह वही इंजन है जो कंपनी की एमपीवी अर्टिगा और सेडान सिआज़ के साथ आता है. वहीं सिग्नल जैसी जगहों पर जहां कार निष्क्रिय खड़ी रहती है वहां ईंधन की बजाय हाइब्रिड सिस्टम से जुड़ी बैटरी इंजन को पॉवर देती है जिससे कार की माइलेज में इज़ाफ़ा देखने को मिलता है. इसके अलावा हाइब्रिड सिस्टम में लगी बैटरी इंजन को अतिरिक्त ताकत देने के साथ कार्बन डाई ऑक्साइड का उत्सर्जन घटाकर बड़ी मात्रा में प्रदूषण को भी कम करती है.