‘कर्नाटक की एक इंच भी जमीन देने का सवाल पैदा नहीं होता.’

— बीएस येदियुरप्पा, कर्नाटक के मुख्यमंत्री

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने यह बात महाराष्ट्र में उनके समकक्ष उद्धव ठाकरे द्वारा बेलगाम मुद्दा उठाए जाने पर कही है. उन्होंने कहा कि राजनीतिक लाभ के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं.
बेलगाम पर महाराष्ट्र अपना दावा करता है जहां मराठी भाषी लोगों की खासी आबादी रहती है. लेकिन यह जिला अभी कर्नाटक में आता है. उद्धव ठाकरे ने इस महीने की शुरुआत में अपने दो मंत्रियों - छगन भुजबल और एकनाथ शिंदे - को यह जिम्मा दिया था कि वे कर्नाटक सरकार के साथ सीमा विवाद से संबंधित मामलों पर बातचीत में तेजी लाएं.

‘भारत सीएए का समर्थन करता है, क्योंकि सीएए सताए गए शरणार्थियों को नागरिकता देने के बारे में है. यह किसी की नागरिकता लेने के बारे में नहीं है.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बात आज नए नागरिकता कानून के समर्थन में ट्विटर पर एक अभियान शुरू करते हुए कही. इंडिया सपोर्ट्स सीएए नामक हैशटैग से चलाए जा रहे इस अभियान की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री ने लोगों से इसका समर्थन करने की अपील की है. नए नागरिकता कानून में पाकिस्तान, भारत और बांग्लादेश से भारत आए गैरमुस्लिमों को आसानी से नागरिकता देने का प्रावधान है. लेकिन इसका देशव्यापी विरोध हो रहा है. इस विरोध के चलते हुई हिंसा में बीते दिनों 20 से ज्यादा लोगों की जान चली गई.


‘भगवा आपका नहीं है. ये भगवा हिंदुस्तान की धार्मिक आस्था का प्रतीक है, उस धर्म का पालन करना सीखिए.’

— प्रियंका गांधी, कांग्रेस महासचिव

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यह बात उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कही. उनका कहना था कि इस देश की आत्मा में ‘बदला’ जैसे शब्द की जगह नहीं है. बीते दिनों नागरिकता कानून के खिलाफ हुई हिंसा पर मुख्यमंत्री ने कहा था कि उपद्रवियों से ‘बदला’ लिया जाएगा. इसके बाद खबरें आईं किे हिंसा के दर्जनों आरोपितों को वसूली के नोटिस भेजे गए हैं. प्रियंका गांधी ने मांग की कि किसी पर भी आरोप साबित हुए बिना संपत्ति जब्‍त करने की कार्रवाई नहीं होनी चाहिए. उधर, उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा है कि प्रियंका गांधी का यह बयान बताता है कि वे हिंसा का समर्थन करने वालों के साथ खड़ी हैं.


‘सिर्फ इतना पक्का कीजिए कि आपका नाम मतदाता सूची में हो. बाकी मैं देख लूंगी. किसी को ये देश नहीं छोड़ना पड़ेगा.’  

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी ने यह बात पुरुलिया में आयोजित एक कार्यक्रम में कही. उन्होंने आरोप लगाया कि नए नागरिकता कानून के खिलाफ जो भी शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहा है उसे राष्ट्र विरोधी बताया जा रहा है. उनका यह भी कहना था कि जब तक इस कानून को वापस नहीं ले लिया जाता तब तक वे अपना विरोध बंद नहीं करेंगी.