उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पर पलटवार किया है. सोमवार शाम मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से कुछ ट्वीट किये गए. इनमें कहा गया है, ‘योगी आदित्यनाथ ने भगवा लोक सेवा के लिए धारण किया है. सब कुछ त्याग कर. वह न केवल भगवा धारण करते हैं, बल्कि उसका प्रतिनिधित्व भी करते हैं. भगवा वेशभूषा लोक कल्याण और राष्ट्र निर्माण के लिए है और (मुख्यमंत्री) योगी जी उस पथ के पथिक हैं.’

इसके बाद एक अन्य ट्वीट में लिखा है, ‘संन्यासी की लोक सेवा और जन कल्याण के निरंतर जारी यज्ञ में जो भी बाधा उत्पन्न करेगा उसे दण्डित होना ही पड़ेगा. विरासत में राजनीति पाने वाले और देश को भुला कर तुष्टिकरण की राजनीति करने वाले लोक सेवा का अर्थ क्या समझेंगे?’

इससे पहले सोमवार को लखनऊ में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था, ‘उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भगवा धारण किया है. यह भगवा आपका नहीं है. ये भगवा हिन्दुस्तान की धार्मिक आध्यात्मिक परंपरा का है. हिन्दू धर्म का चिन्ह है. इस धर्म में रंज, हिंसा और बदले की भावना की कोई जगह नहीं है.’

प्रियंका का आगे कहना था, ‘ये कृष्ण भगवान का देश है, जो करूणा के प्रतीक हैं. भगवान राम करूणा के प्रतीक हैं...इस देश की आत्मा में हिंसा, बदला, रंज इन चीजों की जगह नहीं है...मुख्यमंत्री ने बयान दिया कि वह बदला लेंगे, उस बयान पर पुलिस प्रशासन कायम है. इस देश के इतिहास में शायद पहली बार एक मुख्यमंत्री ने ऐसा बयान दिया.’