महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पूर्व सहयोगी पार्टी शिवसेना पर निशाना साधा है. बुधवार को महाराष्ट्र के पालघर में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘शिवसेना सुबह शेर है, रात में ढेर है. वह सुबह शेर है, शाम को बिल्ली है. शिवसेना का आदेश अब मातोश्री से नहीं निकलता. उसे अब दिल्ली के मातोश्री का आदेश मानना पड़ता है. यह सरकार (मुंबई में ठाकरे के आवास) मातोश्री से नहीं, बल्कि दिल्ली के मातोश्री से नियंत्रित होगी.’

हालांकि, ‘दिल्ली के मातोश्री’ कहते हुए फडणवीस ने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन उनका इशारा सोनिया गांधी के कार्यालय की ओर था.

मातोश्री मराठी शब्द है जिसका मतलब मां होता है. शिवसेना संस्थापक बाल ठाकरे की जिंदगी में ‘मातोश्री’ महाराष्ट्र की राजनीति में एक शक्ति केंद्र के रूप में देखा जाता था. भाजपा के वरिष्ठ नेताओं, बॉलीवुड अभिनेता एवं दिवंगत पॉप गायक माइकल जैकसन समेत कई प्रतिष्ठित हस्तियां बांद्रा स्थित ‘मातोश्री’ गई थीं.

अपने हमले जारी रखते हुए देवेंद्र फडणवीस ने उद्धव ठाकरे के इस बयान पर भी तंज कसा कि उन्होंने अपने दिवंगत पिता बाल ठाकरे से वादा किया था कि वह शिवसैनिक को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनाएंगे. फडणवीस का कहना था, ‘अगर बाल ठाकरे को पता चला होगा कि चुनाव के बाद शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के साथ चली गई है, तो वह स्वर्ग में रोए होंगे.

फडणवीस ने शिवसेना पर भाजपा को धोखा देने का आरोप भी लगाया. उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से कहा, ‘महाराष्ट्र के लोगों ने शिवसेना-भाजपा गठबंधन को स्पष्ट जनादेश दिया था, लेकिन राकांपा और कांग्रेस से हाथ मिलाने वाली शिवसेना के विश्वासघात के कारण भाजपा सत्ता से बाहर हो गई...ऐसे में अब उद्धव ठाकरे की पार्टी को आगामी पालघर जिला परिषद चुनाव में करारा जवाब देना है.’

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के मुताबिक यह गठबंधन सरकार ज्यादा दिन तक चलना बेहद मुश्किल है. उनका कहना था कि मंत्रिमंडल विस्तार के तुरंत बाद ही कांग्रेस-शिवसेना-एनसीपी के गठबंधन में ‘अंदरूनी कलह’ सामने आने लगी है, ऐसे में यह सरकार कितने दिन चलेगी समझा जा सकता है.