कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने आज उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर का दौरा किया. यहां उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन के बाद पुलिस कार्रवाई से प्रभावित लोगों से मुलाकात की. इस दौरान प्रियंका गांधी ने कहा, ‘जहां जहां अन्याय होगा वहां हम खड़े होंगे’.

प्रियंका गांधी ने पहले एक स्थानीय मदरसे के मौलाना से मुलाकात की. इसके बाद कुछ अन्य प्रभावित लोगों से मिलते हुए वे रुकैया परवीन नामक उस युवती से भी मिलीं जिसकी जल्द ही शादी है. रुकैया के परिवार का आरोप है कि पुलिस उनके घर में घुसी और तोड़फोड़ करते हुए सामान भी अपने साथ ले गयी. प्रियंका गांधी ने कहा, ‘इसकी शादी होने वाली थी. पुलिस ने इसके घर में घुसकर सामान तोड़फोड़ दिया. लड़की के सिर पर चोट लगी है.’

कांग्रेस महासचिव ने आगे कहा, ‘मैंने हाल ही में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल को चिट्ठी लिखी जिसमें कई मामलों का विवरण है. हमने उन्हें बताया कि पुलिस ने किस तरह लोगों को बेवजह मारा-पीटा है.’ प्रियंका गांधी का कहना था, ‘अगर किसी ने कुछ गलत किया है तो पुलिस कार्रवाई करे. इसमें किसी को कोई दिक्कत नहीं है लेकिन पुलिस घरों में घुसकर मारपीट कर रही है. पुलिस का काम न्याय दिलाना है लेकिन यहां तो उलटा हुआ है.’

सूत्रों का कहना है कि मुजफ्फरनगर के बाद प्रियंका मेरठ भी जा सकती हैं. उन्हें और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को पिछले दिनों मेरठ जाने से रोक दिया गया था. प्रियंका गांधी ने इससे पहले बिजनौर में सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान मारे गए दो युवकों के परिवारों से मुलाकात की थी.

उत्तर प्रदेश के कई शहरों में बीते महीने नए नागरिकता कानून के विरोध में हिंसा हुई थी. इस दौरान कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद प्रशासन ने हिंसा में हुए नुकसान की भरपाई उपद्रवियों से वसूलने की कार्रवाई शुरू की है. लेकिन उस पर लोगों को प्रताड़ित करने के आरोप भी लग रहे हैं.