भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में हुए हमले पर कहा कि शिक्षण संस्थानों में हिंसा वाम दलों का तोहफा है. उन्होंने कहा कि वामपंथी छात्र समूहों को अब यही तोहफा वापस मिल रहा है क्योंकि अब हिसाब बराबर किया जा रहा है.

दिलीप घोष ने कहा, ‘छात्र राजनीति और शिक्षण संस्थानों में हिंसा वामपंथी छात्र संगठनों का तोहफा है. आप सिर्फ पश्चिम बंगाल, केरल और त्रिपुरा के शिक्षण संस्थानों में हिंसा देखेंगे जहां वाम दल या तो सत्ता में हैं या फिर कुछ सालों पहले तक सत्ता में थे.’ उन्होंने कहा, ‘अब, वामपंथी छात्र समूहों को यह वापस मिल रहा है क्योंकि हिसाब बराबर किया जा रहा है.’ उन्होंने कहा कि अधिकारी और पुलिस घटना को देख रहे हैं, बेहतर होता अगर शिक्षण संस्थानों के अंदर हिंसा को टाला जा सकता.

जेएनयू में रविवार रात डंडों और रॉड से लैस नकाबपोश लोगों ने छात्रों और शिक्षकों पर हमला किया था. परिसर में संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया, जिसके बाद प्रशासन को पुलिस बुलानी पड़ी थी. जेएनयू छात्रसंघ ने इस हमले का आरोप भाजपा से जुड़े छात्र संगठन एबीवीपी पर लगाया है.