केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता वाले मंत्री समूह ने मंगलवार को एयर इंडिया के निजीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाया है. मंत्रियों के समूह ने एयर इंडिया की विनिवेश प्रक्रिया के लिए बोली लगाने के लिए रुचि पत्र (ईओआई) और शेयर खरीद- बिक्री समझौते के प्रारूप को मंजूरी दे दी है.

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी के मुताबिक, सार्वजनिक क्षेत्र की इस विमानन कंपनी के निजीकरण के लिये जनवरी में ही रुचि पत्र और शेयर खरीद-बिक्री समझौते को जारी कर दिया जायेगा. एयर इंडिया में विनिवेश की प्रक्रिया में देरी के बीच यह चर्चा भी उठ रही थी कि सरकार एयर इंडिया के संचालन पर रोक लगा सकती है. हालांकि, एयर इंडिया के अधिकारियों ने इस तरह की चर्चाओं को खारिज किया था. रुचि पत्र के प्रारूप को मंजूरी मिलने के बाद माना जा रहा है कि एयर इंडिया के विनिवेश प्रक्रिया में तेजी आएगी.

एयर इंडिया विशिष्ट वैकल्पिक प्रणाली (एआईएसएएम) ने पिछले साल ही विमानन कंपनी में सरकार की शत- प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिये प्रक्रिया को फिर से शुरू करने को मंजूरी दी थी. एयर इंडिया के साथ ही विमानन से जुड़ी कुछ अन्य सार्वजनिक कंपनियों में भी विनिवेश का फैसला किया गया था.