निर्भया मामले की दोषियों की सज़ा की तारीख तय

निर्भया मामले के दोषियों की सजा का दिन तय हो गया है. इस मामले के चारों आरोपितों को 22 जनवरी को सुबह सात बजे फांसी दी जाएगी. दिल्ली की एक अदालत ने उनका डेथ वारंट जारी कर दिया है. छह दिसंबर 2012 की रात दिल्ली में एक चलती बस में छह लोगों ने 23 साल की निर्भया के साथ सामूहिक बलात्कार किया था. कई दिनों तक जिंदगी की जंग लड़ने के बाद उसने 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था. इस घटना ने देश भर को हिला दिया था. कई दिनों तक पूरे भारत में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए थे.

अदालत ने इस मामले में चार दोषियों को मौत की सजा सुनाई थी. एक दोषी नाबालिग था जो अपनी सजा पूरी कर चुका है. एक अन्य दोषी ने तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी. निर्भया की मां ने दोषियों का डेथ वारंट जारी होने पर संतोष जताया है. उन्होंने कहा कि इस फैसले से लोगों का न्यायपालिका पर भरोसा बहाल होगा.

जेएनयू में हुई हिंसा पर घमासान जारी, विश्वविद्यालय छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष के खिलाफ एफआईआर दर्ज

दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में हुई हिंसा पर घमासान जारी है. सीपीएम नेता सीताराम येचुरी और प्रकाश करात ने आज जेएनयू के छात्रों के साथ एकजुटता जताने के लिए एक मार्च निकालने की कोशिश की. लेकिन पुलिस ने उन्हें विश्वविद्यालय के भीतर नहीं जाने दिया. देश के कई विश्वविद्यालयों में आज जेएनयू छात्रों के समर्थन में प्रदर्शन हुए. उधर, जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष और 19 अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. इन सभी पर चार जनवरी को यूनिवर्सिटी के सर्वर रूम में तोड़फोड़ और सिक्योरिटी गार्डों पर हमला करने का आरोप है. बताया जा रहा है कि ये सभी अगले सेमेस्टर के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को रोकने की कोशिश कर रहे थे. हालांकि आइशी घोष ने इसे आरोप को खारिज किया है. पांच जनवरी को कुछ नकाबपोश हमलावरों द्वारा कैंपस में की गई हिंसा में वे भी घायल हो गई थीं. उन्होंने इस हिंसा का आरोप एबीवीपी पर लगाया है. उधर, एबीवीपी ने हिंसा के लिए वाम समर्थित छात्र संगठनों को जिम्मेदार ठहराया है. मामले की जांच क्राइम ब्रांच कर रही है. अभी तक किसी हमलावर को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है.

सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान गिरफ्तार पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी रिहा

नए नागरिकता कानून के विरोध में हुये प्रदर्शनों के दौरान लखनऊ में गिरफ्तार पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी और कांग्रेस प्रवक्ता सदफ जाफर आज जेल से रिहा हो गए. एक स्थानीय अदालत ने दोनों को शनिवार को ही ज़मानत दे दी थी, लेकिन औपचारिकताएं पूरी नहीं होने के कारण उनकी रिहाई रुकी हुई थी. इन दोनों की रिहाई के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा. एक ट्वीट में उन्होंने कहा कि अदालत ने जब सबूत मांगे तो उत्तर प्रदेश पुलिस बगलें झांकने लगी. प्रियंका गांधी ने ये भी कहा कि भाजपा सरकार ने निर्दोष लोगों को गिरफ्तार करके अपनी असली सोच दिखाई थी, लेकिन झूठ कभी जीत नहीं सकता.

नरेंद्र मोदी ने डोनाल्ड ट्रंप से बात की, आपसी सहयोग बढ़ाने पर चर्चा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से बात की है. पीएमओ की ओर से आज जारी एक बयान में ये जानकारी दी गई. बयान के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति को नए साल की बधाई दी. इस दौरान दोनों नेताओं ने भारत-अमेरिका संबंधों पर चर्चा भी की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भरोसे, आपसी सम्मान और समझ की बुनियाद पर बने भारत-अमेरिका संबंध लगातार मजबूत होते गए हैं. दोनों नेताओं ने बीते साल आपसी रणनीतिक साझीदारी में आई अहम प्रगति पर भी बात की. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आपसी हित के सभी क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने की बात कही.

भारतीय मूल की दो महिलाएं अमेरिका की दो अलग-अलग अदालतों में जज बनीं

भारतीय मूल की दो महिला वकीलों को अमेरिका की दो अलग-अलग अदालतों में जज नियुक्त किया गया है. इनमें पहली अर्चना राव हैं जिन्हें न्यूयार्क की एक आपराधिक अदालत में नियुक्त किया गया है. न्यायाधीश दीपा अंबेकर को भी न्यूयार्क की ही एक दीवानी अदालत में नियुक्ति मिली है. अर्चना राव को बीते साल एक दीवानी अदालत में अंतरिम न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था. वहीं दीपा अंबेकर को भी 2018 में एक दीवानी अदालत में ही अंतरिम न्यायाधीश बनाया गया था. अमेरिका में भारतीय मूल के करीब 27 लाख लोग हैं. इनमें लूज़ियाना प्रांत के गवर्नर रहे बॉबी जिंदल जैसे तमाम चमकदार नाम हैं.

ईरान में जनरल सुलेमानी की अंतिम यात्रा में भगदड़, 35 लोगों की मौत

ईरान के चर्चित सैन्य कमांडर रहे कासिम सुलेमानी के जनाज़े में मची भगदड़ से 35 लोगों की मौत हो गई. ये घटना नजरल सुलेमानी के गृह नगर करमान में हुई. हादसे में 48 लोग घायल भी हुए हैं. बीते हफ्ते इराक में अमेरिकी ड्रोन हमले में मारे गए जनरल सुलेमानी को आखिरी विदाई देने के लिए लाखों की संख्या में लोग सड़कों पर निकले थे. इसी दौरान ये हादसा हो गया. उधर, आज ही ईरान की संसद ने एक विधेयक पारित कर सभी अमेरिकी बलों को आतंकवादी घोषित कर दिया है. यानी उसकी नजर में हर अमेरिकी सैनिक आतंकवादी है. विधेयक में अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन को आतंकी समूह घोषित किया गया है.