इराक की राजधानी बगदाद के उच्च सुरक्षा वाले क्षेत्र ग्रीन जोन में बुधवार को दो रॉकेट आकर गिरे. इस इलाके में अमेरिकी मिशन समेत अन्य देशों के दूतावास स्थित हैं. सुरक्षा सूत्रों ने एएफपी को यह जानकारी दी. इस हमले के लगभग 24 घंटे पहले ईरान ने दो इराकी सैन्य अड्डों पर बैलिस्टिक मिसाइलों से हमले किए थे. इन अड्डों पर अमेरिकी बल और गठबंधन बल ठहरे हुए थे. सैन्य अड्डों पर हमले ईरान के जनरल कासिम सुलेमानी की मौत का अमेरिका से बदला लेने के लिए किए गए थे. जनरल सुलेमानी की मौत एक अमेरिकी हमले में हुई थी.

इससे पहले, इराक में अमेरिकी सैनिकों के ठिकानों पर मिसाइलें दागने के बाद ईरान ने कहा था कि वह इराक की क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करता है. संयुक्त राष्ट्र में ईरान के राजदूत माजिद तख्त रवांची ने यह बात संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेश को लिखे गए एक पत्र में कही. इससे पहले इराक के विदेश मंत्री ने कहा था कि वे ईरान के राजदूत को तलब करेंगे क्योंकि मिसाइल हमला इराक की संप्रभुता का उल्लंघन था.

इस हमले में इराक या अमेरिका की सेना से कोई हताहत नहीं हुआ. हालांकि ईरान ने दावा किया कि इसमें कम से कम 80 अमेरिकी सैनिक मारे गए. इराक पिछले शुक्रवार को हुए अमेरिकी ड्रोन हमले के मामले में अमेरिकी राजनयिक को तलब कर चुका है. इसी हमले में ईरान के शीर्ष कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत हुई थी.