सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) ने इस मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. पीटीआई के मुताबिक एसआईटी ने बयान जारी कर इसकी जानकारी दी. उसने कहा कि रुशिकेश देवदिकर उर्फ मुरली (44) फरार चल रहा था. उसे बृहस्पतिवार को झारखंड के धनबाद जिले में गिरफ्तार किया गया. जांच दल के मुताबिक आरोपित गौरी लंकेश की हत्या की साजिश का हिस्सा है और वह इस मामले में 18वां आरोपित है. एसआईटी ने कहा कि सबूतों के लिए उसके घर की तलाशी ली जा रही है और जल्द ही उसे न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा.

चर्चित पत्रकार गौरी लंकेश की बेंगलुरू में पांच सितंबर 2017 को उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. उनकी हत्या का संदेह एक ऐसे समूह के सदस्य पर गया था जो दक्षिणपंथी विचारधारा से प्रेरित था. जांचकर्ताओं ने कहा कि समूह ने ऐसे लोगों की सूची तैयार की थी जिनकी वह हत्या करना चाहता था और उस सूची में रंगकर्मी गिरीश कर्नाड और तर्कवादी केएस भगवान का भी नाम था. एसआईटी के मुताबिक गौरी लंकेश की हत्या की साजिश इस दक्षिणपंथी समूह के उन्हीं सदस्यों ने रची जिन पर तर्कवादी एमएम कलबुर्गी की हत्या का आरोप है.