जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हिंसा के सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को नौ संदिग्धों की तस्वीर जारी की है. पुलिस का दावा है कि जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष उनमें से एक थीं.

मामले की जांच कर रहे अपराध शाखा के उपायुक्त जॉय तिर्की ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि एक जनवरी से पांच जनवरी के बीच काफी संख्या में छात्र शीतकालीन सेमेस्टर में पंजीकरण कराना चाहते थे, लेकिन वामपंथी झुकाव वाले संगठन उन्हें ऐसा नहीं करने दे रहे थे. डीसीपी ने पांच जनवरी को हुए हमले के सिलसिले में कहा कि विश्वविद्यालय के पेरियार छात्रावास के कुछ खास कमरों को निशाना बनाया गया. दिल्ली पुलिस ने कहा कि नौ में से सात हमलावर वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े हैं जबकि दो दक्षिणपंथी छात्र संगठन से जुड़े हैं.

पुलिस अधिकारी ने दावा किया कि जेनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष समेत कुछ लोगों ने हॉस्टल में छात्रों पर हमला किया. हमले में घायल हुईं आइशी घोष ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस के पास जो भी साक्ष्य हैं उन्हें सार्वजनिक करना चाहिए.