थल सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) का पद सृजित होने को तीनों सैन्य बलों के एकीकरण की दिशा में बहुत बड़ा कदम बताया है. पीटीआई के मुताबिक उन्होंने यह भी कहा कि सेना इसकी सफलता सुनिश्चित करेगी. सेना प्रमुख के इस बयान से कुछ दिन पहले ही जनरल विपिन रावत ने भारत के पहले प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) का पदभार संभाला है.

जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने ये सभी बातें दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में कहीं. उन्होंने जोर देकर कहा, ‘संविधान में निहित न्याय, स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व की भावना हमारा मार्गदर्शन करती रहेगी.’ विपक्ष बीते कुछ समय से लगातार आरोप लगा रहा है कि केंद्र सरकार सेना का राजनीतिकरण कर रही है.

सेना प्रमुख ने कहा कि अब प्रशिक्षण का फोकस भविष्य के युद्धों के लिए सेना को तैयार करने पर होगा जो नेटवर्क केंद्रित और जटिल होगा. चीन द्वारा सीमावर्ती क्षेत्र में किये जा रहे सैन्य बुनियादी ढांचे के विस्तार को लेकर सेना प्रमुख ने कहा, ‘हम उत्तरी सीमा पर उभरी चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार हैं.’