सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने शनिवार को कहा कि यदि सेना को संसद से आदेश मिलता है तो वह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को अपने नियंत्रण में ले सकती है. इस बयान को पाकिस्तान के लिए कड़े संदेश के रूप में देखा जा रहा है.

सेना प्रमुख जनरल मुकुंद नरवणे ने कहा, ‘जहां तक पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की बात है तो कई साल पहले इस पर संसद से एक प्रस्ताव पारित हुआ था कि पूरा जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा है. यदि संसद चाहती है कि यह क्षेत्र पूरी तरह हमारा हो जाए और यदि हमें उसके सिलसिले में आदेश मिलता है तो हम निश्चित ही उस दिशा में कार्रवाई करेंगे.’ जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में पाकिस्तान सेना द्वारा दो नागरिकों को मारे जाने के बारे में जनरल नरवणे ने कहा कि भारतीय सेना ऐसी बर्बर कार्रवाई को अंजाम नहीं देगी. उन्होंने कहा, ‘हम ऐसी बर्बर कार्रवाई नहीं करेंगे और बहुत ही पेशेवर सैन्यबल के रूप में लड़ेंगे. हम सैन्य तरीके से ऐसी स्थितियों से उपयुक्त ढंग से निपटेंगे.’

फरवरी, 1994 में संसद में एक प्रस्ताव पारित हुआ था कि पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर के उन क्षेत्रों को पूरी तरह खाली करे, जिन्हें उसने आक्रमण के जरिए कब्जा लिया था. उस प्रस्ताव में यह भी निश्चय किया गया था कि भारत के अंदरूनी मामलों में दखल की पाकिस्तान की किसी भी कोशिश से दृढ़ता से निपटा जाएगा.