जेडीयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने एक बार फिर अपनी पार्टी के मुखिया और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दुविधा में डाल दिया है. प्रशांत किशोर ने कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और एनआरसी के बहिष्कार के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने इस फैसले के लिए राहुल और प्रियंका गांधी को विशेष तौर पर धन्यवाद भी दिया और साथ ही एक बार फिर आश्वासन दिया है कि बिहार में सीएए और एनआरसी लागू नहीं होगा.

रविवार को एक ट्वीट के जरिये प्रशांत किशोर ने ये बातें कही हैं. उन्होंने लिखा, ‘मैं सभी की तरह सीएए और एनआरसी को औपचारिक और स्पष्ट रूप से अस्वीकृत करने के लिए कांग्रेस नेतृत्व को धन्यवाद देना चाहता हूं. इसके लिए राहुल गांधी और प्रियंका गांधी दोनों ही विशेष धन्यवाद के पात्र हैं. इसके अलावा, आप सभी को आश्वस्त करना चाहूंगा कि बिहार में सीएए और एनआरसी लागू नहीं होगा.’

प्रशांत किशोर के इस ट्वीट ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मुश्किलें इसलिए बढ़ा दी हैं क्योंकि किशोर का यह बयान एनडीए में जेडीयू के रुख से बिलकुल जुदा है. संसद में जेडीयू सीएए के मुद्दे पर केंद्र सरकार के साथ खड़ी थी. इन दिनों भाजपा के प्रमुख नेता बिहार में सीएए और एनआरसी के पक्ष में सभाएं भी कर रहे हैं. जाहिर है कि अगर सीएए पर दोनों दलों के बीच बात नहीं बनी तो गठबंधन के टूटने की नौबत भी आ सकती है.