कल स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रामकृष्ण मिशन के मुख्यालय बेलूर मठ गए. वहां उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून(सीएए) को लेकर विपक्ष पर निशाना साधा. नरेंद्र मोदी ने कहा, यह कानून नागरिकता देने के लिए है, न कि लेने के लिए. इसे रातों-रात नहीं बल्कि सोच विचार कर बनाया गया है, लेकिन कुछ सियासी दल इसे जानबूझकर समझना नहीं चाहते हैं और भ्रम फैला रहे हैं.’ यह खबर आज लगभग सभी अखबारों के पहले पन्ने पर है. प्रधानमंत्री का यह भी कहना था कि इस कानून पर पैदा हुए विवाद ने दुनिया को पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों के दमन की हकीकत दिखा दी है.

एनएसजी को वीआईपी सुरक्षा से पूरी तरह हटाया जाएगा

वीआईपी सुरक्षा में व्यापक कटौती करने और गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने के बाद केंद्र सरकार ने अब राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) को इस काम से पूरी तरह मुक्त करने का फैसला किया है. दैनिक जागरण के मुताबिक ऐसा करीब दो दशक बाद होगा. इस आतंकवाद निरोधी विशिष्ट बल का जब गठन हुआ था तो इसके मूल कामों में वीआईपी सुरक्षा शामिल नहीं थी. फिलहाल एनएसजी ‘जेड-प्लस’ श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त 13 ‘उच्च जोखिम’ वाले वीआईपी को सुरक्षा देता है. इस सुरक्षा घेरे में अत्याधुनिक हथियारों से लैस करीब दो दर्जन कमांडो हर वीआईपी के साथ होते हैं. सूत्रों ने कहा, गृह मंत्रालय का मानना है कि एनएसजी को अपना ध्यान मूल काम यानी आतंकवाद को रोकने और विमान अपहरण के खिलाफ अभियान पर केंद्रित करना चाहिए. बंधक बनाने की आपात स्थिति में भी एनएसजी कमांडो कार्रवाई करते हैं. वीआईपी सुरक्षा की जिम्मेदारी उनकी सीमित व विशिष्ट क्षमताओं पर बोझ साबित हो रही थी.’ अधिकारियों ने कहा कि वीआइपी सुरक्षा से एनएसजी को हटाने से 450 कमांडो मुक्त होंगे जिनका इस्तेमाल देश में बने इनके पांच ठिकानों में इनकी मौजूदगी को और सुदृढ़ करने में किया जाएगा.

इराकी सैन्य ठिकानों पर छह दिन में तीसरा हमला

इराके के एक ठिकाने पर रविवार को चार रॉकेटों से हमला किया गया. दैनिक भास्कर के मुताबिक उत्तर बगदाद के अल-बलाद एयरबेस पर हुए इस हमले में चार इराकी वायु सैनिक घायल हुए हैं. इस एयरबेस पर अमेरिकी सैनिकों का भी ठिकाना है, लेकिन वे ईरान और अमेरिका के बीच चल रहे तनाव को देखते हुए पहले ही इस एयरबेस से जा चुके थे. अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर यह छह दिन में तीसरा हमला है. अमेरिका ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि वे काफी गुस्से में हैं. एक ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘इराक सरकार के दुश्मन लगातार उसकी स्वायत्ता का उल्लंघन कर रहे हैं, यह अब बंद होना चाहिए.’

पाकिस्तानी सेना ने दो भारतीय नागरिकों के सिर काटे

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में पाकिस्तान सेना के हमले को लेकर एक नई जानकारी सामने आई है. हिंदुस्तान के मुताबिक हमले में न सिर्फ दो स्थानीय नागरिकों की हत्या की गई बल्कि उनके सिर भी काट दिए गए. ये दोनों सेना के लिए पोर्टर का काम भी करते थे. सेना ने कहा है कि वह इस घटना को गंभीरता से ले रही है. बताया जा रहा है कि ये दोनों खेतों में काम कर रहे थे. उनके दो साथी घायल भी हुए हैं. नागरिकतों के साथ इस तरह की बर्बरता का यह पहला मामला है. भारतीय सैनिकों के साथ ऐसी बर्बरता दो बार की जा चुकी है.