‘उनके पास नारी धर्म का कोई संस्कार नहीं है.’  

— सुरेंद्र सिंह, भाजपा विधायक

उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के बैरिया से भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने यह बात संशोधित नागरिकता कानून को लेकर ममता बनर्जी की आलोचना करते हुए कही. उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा देवताओं की पार्टी है जबकि सपा, बसपा और तृणमूल कांग्रेस राक्षसों की पार्टियां हैं. सुरेंद्र सिंह इससे पहले भी विवादास्पद बयान देते रहे हैं.

  ‘मुझे लगता है कि जो हो रहा है वह दुखद है, बुरा है.’  

— सत्या नडेला, माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ

सत्या नडेला ने यह बात नागरिकता संशोधन कानून को लेकर कही. वे किसी भी तकनीकी कंपनी के पहले मुखिया हैं जिन्होंने सीएए की आलोचना की है. अमेरिका के मैनहटन में माइक्रोसॉफ्ट के एक आयोजन में उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें यह देखना अच्छा लगेगा कि कोई बांग्लादेशी प्रवासी भारत आकर अगला यूनिकॉर्न स्थापित करे या फिर इंफोसिस का अगला सीईओ बने.


‘पुलवामा हमले की नए सिरे से जांच की जरूरत है.’  

— अधीर रंजन चौधरी, कांग्रेस नेता

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने यह बात कश्मीर के एक पुलिस अधिकारी की गिरफ्तारी के बाद कही. देविंदर सिंह नाम के इस अधिकारी को तब गिरफ्तार किया गया जब वह हिजबुल के दो आतंकियों को दिल्ली पहुंचाने की कोशिश में था. देविंदर सिंह का नाम अफजल गुरू से भी जुड़ चुका है जिसे संसद पर हमले के मामले में फांसी दी गई थी. फरवरी 2019 में पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए थे.